Home शिक्षाप्रद कहानियाँ Hindi Moral Story:मछली छीनने का फल

Hindi Moral Story:मछली छीनने का फल

Hindi Moral story : एक बार एक नदी के तट पर दो लोग मछली पकड़ रहे थे। सुबह से शाम तक वो नदी किनारे बैठे रहे, लेकिन दोनों में से किसी के भी कांटे में मछली नहीं फसी। शाम हो चली दोनों  चलने को तैयार हो गए। तभी एक के कांटे में एक मछली फसी। वह व्यक्ति बहुत खुश हुआ “कि चलो सुबह से शाम तक बैठे रहे… दिन भर तो कुछ नहीं मिला, शाम में ही मिला  पर मिला तो सही। हे भगवान बहुत अच्छा हुआ! 

लेकिन यह बात उसके साथ जो दूसरा व्यक्ति बैठा हुआ था उसे अच्छा नहीं लगा। उसने पहले वाले से कहा -“यह मछली मुझे दे दो।” अब यह कहां मछली देने वाला था पूरी दिन के परिश्रम का  फल जो  था । उसने मना कर दिया ! लेकिन दूसरा व्यक्ति जो खाली हाथ घर जा रहा था थोड़ा दबंग प्रवृत्ति का था उसने जबरदस्ती मछली छीन ली  । 

दोनों घर की ओर चल पड़े। 

जिसके कांटे  में मछली फंसी थी वह थोड़ा उदास होकर घर जा रहा था और जिस ने छीन ली वह थोड़ा खुश होकर घर जा रहा था। लेकिन जैसे ही दूसरा बंदा जिसने मछली छीन ली थी, थोड़ा आगे बढ़ा, मछली ने उसके हाथ में काट लिया। उसकी उंगली से बहुत ज्यादा खून बहने लगा। वह घर तक गया मछली को घर पर रख सीधे डॉक्टर के पास चला गया।डॉक्टर ने उसके हाथ में मरहम पट्टी कर दी और बोला” 4 दिन के बाद एक बार आकर मिल लेना ।”

hindi moral story,machhli-chhinane-ki-kahani,hindi moral story,motivational hindi story

वह व्यक्ति 4 दिन के बाद डॉक्टर के पास गया लेकिन यह क्या ? घाव सूखने की बजाय और बढ़ गया। डॉक्टर ने फिर पट्टी वगैरह  की और उससे कहा -“अगले 3 दिन में जरूर आके दिखा जाना…!”

विज्ञापन

जब नियत समय पर वह पहुंचा। डॉक्टर उसे देखने के बाद कहने लगा :-” हाथ की उंगलियां सड़ने लगी हैं। इन्हें काटना पड़ेगा, नहीं तो घाव पूरे हाथ में फ़ैल जाएगा।”

hindi moral storyमछली छीनने का फल

उसे मजबूर होकर हामी भरनी पड़ी । डॉक्टर ने उसकी उंगली काट कर निकाल दी..और फिर मरहम पट्टी कर दी।  फिर एक 4 दिन में मिलने को कहा । जब दोबारा वह डॉक्टर के पास गया तो डॉक्टर ने कहा कि घाव तो ठीक नहीं हुआ और उल्टा बढ़ता जा रहा है ..! अब हाथ काटना पड़ेगा … मरहम पट्टी हुई दवाई दारू हुआ और डॉक्टर ने कहा “कि एक बार 10 दिनों के बाद वापिस दिखा जाओ ।”  जब तीसरी बार पहुंचा तो डॉक्टर ने कहा कि यह क्या हो रहा है ! अभी तक मैंने हजारों लोगो की चिकित्सा की है, इस तरह की समस्या,ऐसी गंभीर समस्या का सामना किसी को भी नहीं करना पड़ा. .. उसका घाव ठीक होने की बजाय और बढ़ता जा रहा था।

विज्ञापन

डॉक्टर ने उससे पूछा :-“तुमने किसी का कुछ बहुत बुरा तो नहीं कर दिया ..! क्योकि तुम बिलकुल स्वस्थ हो फिर भी दवाओं का तुम पर असर नहीं हो रहा ।” उसने बोला -“नहीं डॉक्टर साहब !अभी तक तो मैंने किसी का बुरा नहीं किया। ”  

डॉक्टर की बात सुनकर थोड़ा विचलित होकर वह मरहम पट्टी करवाने के बाद अपने घर आ गया. घर आकर भी बेचैन था. रात में जब वह सोने लगा तो याद कर रहा था कि मैंने किसका क्या बिगाड़ा… जो डॉक्टर ऐसा बोल रहा था।

तभी सहसा उसे वो मछली छीनने की  बात याद आ गयी। अगले दिन जैसे ही सवेरा हुआ वह भागता हुआ उस व्यक्ति के पास गया जिसकी उसने मछली छीन ली थी ,और बोला:-” भाई ! तुमने मुझे क्या बद्दुआ दी , क्या तंत्र-मंत्र कर दी कि मेरा जीना मुश्किल होता जा रहा है  मैं ठीक नहीं हो पा रहा हूँ ।”  

उस व्यक्ति ने कहा :-” नहीं ,मैंने कुछ नहीं किया ! बस जब तुमने मुझसे मछली छीन ली, तो मैंने एक नजर ऊपर डाली और भगवान से कहा हे प्रभु ! इसने मेरी पूरी मेहनत की कमाई चुटकियों में छीन ली। इसने मुझे अपनी ताकत दिखाई…. मेरे घर में आज मेरे बच्चे भूखे रह जाएंगे…। मैं कुछ नहीं कर सकता यह बहुत ताकतवर है… हे प्रभु !  आज इसने मुझे अपनी ताकत दिखाई मालिक तू इसे अपनी ताकत दिखा दे…! और मैं अपने बच्चों के लिए आज खाना नहीं जुटा सका इसलिए मुझे माफ़ कर !

कहानी से सीख :-

Lesson from Hindi Moral Story-मछली छीनने का फल

दोस्तों कर्म का फल मिलता जरूर है . इसलिए कभी भी बल का दुरूपयोग करके असहाय और निर्बल लोगो की  हाय मत लीजिये . क्योंकि उसकी हाय..! यदि ऊपर वाले ने सुन ली फिर आपकी सुनने वाला कोई मिलेगा नहीं…. !

हमेशा अपने बाजुओं पर भरोसा रखिये और भगवान् पर विश्वास .आप अपनी मेहनत से वो सब पा सकते हैं जितना किस्मत आपको देना चाहती है लेकिन कभी भी दूसरों का माल हड़प कर बड़ा बनने की कोशिश मत कीजिये .यही कर्म के सिद्धांत का असली सम्मान है …!

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो आपको हमारा फेसबुक पेज जरुर पसंद आएगा. हमसे जुड़ने के लिए इस लिंक >> विचारक्रांति फेसबुक पेज << पर क्लिक करके आप हमारे फेसबुक पेज पर हमसे जुड़ सकतें हैं.

निवेदन :अगर आप भी हिंदी में कुछ मोटिवेशनल अथवा अन्य आर्टिकल लिखते हैं और vicharkranti.com पर प्रकाशित करवाना चाहते हैं.तो लिख भेजिए अपने फोटो के साथ हमारे Email पते पर. हम उसे आपके नाम और फोटो सहित प्रकाशित करेंगे. email :contact@vicharkranti.com

Admin
विचारक्रांति(Vichar-Kranti.Com) पर पढ़िए जीवनी, सफलता की कहानियां,प्रेरक तथ्य तथा जीवन से जुडी और भी बहुत कुछ और बनिए विचारक्रांति परिवार का हिस्सा . विचारक्रांति जीवन के हर क्षेत्र में....

इस पोस्ट पर अपनी प्रतिक्रिया,अपनी बातें यहां नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर हम तक जरूर भेजिए.सभी नए पोस्ट के ईमेल नोटिफिकेशन पाने के लिए नीचे चेकबॉक्स को टिक करिये. धन्यवाद...!

कुछ नए पोस्ट्स

Fake Online Gurus -नकली ऑनलाइन गुरुओं से सावधान !

नमस्कार! उम्मीद करता हूं आप सब अच्छे ही होंगे...इस पोस्ट(fake online...

Business Ideas -जो गढ़ेंगे भविष्य में सफलताओं की कहानियां

भविष्य के व्यवसाय के बारे में संक्षिप्त एवं अहम् जानकारी- Post...

Tulsidas ke Dohe-तुलसीदास जी के सीख भरे दोहे अर्थ सहित

Tulsidas ke Dohe:-गोस्वामी तुलसीदास जी भारतीय संस्कृति में भक्ति काल के...

aaj ka suvichar-आज के सुविचार हिंदी में पढ़िए

aaj ka suvichar:-सुबह सुबह  जो हमारे कानों में कुछ सकारात्मक और...

Sanskrit Shlokas-प्रेरक संस्कृत श्लोक विद्यार्थियों के लिए

sanskrit shlokas: संस्कृत कभी हमारी संस्कृति की मूल और वाहक भाषा...

Hindi Muhaware-हिंदी मुहावरे और अर्थ

Hindi Muhaware :-भाषा को सशक्त प्रवाहमान और प्रांजल बनाने के लिए...

hindu calendar months name-जानिए हिन्दू कैलेंडर के महीनों के नाम

hindu calendar months name.12 महीनों के नाम हिंदी में. हिंदू पंचांग...
- Advertisment -

Vichar-Kranti

पढ़िए जीवन बदलने वाले Ideas,महापुरुषों के प्रेरक वचन,जीवनी, करियर के विकल्प और भी बहुत कुछ...जुड़िये विचारक्रांति से

Advt.-
error: Content is protected !!