HomeInspiring storyपंचतंत्र की कहानी : हितचिंतकों का कहा मानिए ।

पंचतंत्र की कहानी : हितचिंतकों का कहा मानिए ।

ad-

मित्र प्रस्तुत कहानी मूल रूप से पंचतंत्र की कहानियों से अनुदित की गई है । पंचतंत्र में कहानियाँ कोई अलग-अलग हैं नहीं !इसके पांचों खंडों में हर कहानी एक दूसरे से जुड़ती हुई चलती हैं । ये कहानियाँ जीवनोपयोगी गूढ़ ज्ञान से भरी पड़ी हैं । वैसे तो इन कहानियों को सदियों पहले लिखा गया है लेकिन इनकी सांदर्भिकता न तो हमारी पीढ़ी के लिए कम हुई हैं न आगे होंगी । इसलिए हम एक शृंखला के रूप में इन कहानियों को आप तक लाने की शुरुआत कर रहें हैं । इसी कड़ी में प्रस्तुत है पहली कहानी…

हितचिंतकों का कहा मानिए

समुद्र तट पर टिटिहरे का एक जोड़ा निवास करता था। टिटिहरे की पत्नी टिटिहरी जब माँ बनी तो उसने टिटिहरे से अंडा देने के लिए कोई सुरक्षित स्थान खोजने को कहा, ताकि उसके बच्चे सुरक्षित रहें । टिटिहरा थोड़ा अभिमानी था । उसने अपनी पत्नी को जवाब दिया – यह सुरक्षित स्थान है ,तू चिंता न कर बावली ! 

Advertisements

टिटिहरी ने थोड़ी चिंता जताते हुए कहा – ये स्थान ठीक नहीं है , समुद्र में जब ज्वार उठता है तो वह बड़े-बड़े मतवाले हाथी को भी अपने साथ बहा ले जाता है । इसलिए तू कहीं और कोई स्थान देख ले । 

टिटिहरा ने पुनः अपनी पत्नी को समझाते हुए कहा – समुद्र इतना भी दुस्साहसी नहीं बन गया है कि वो मेरे बच्चों को बहा ले जाय । उसे यहां रहना है या नहीं… बहुत डरता है वह मुझसे । 

समुद्र चुप-चाप से उनकी बातें सुन रहा था | उसने सोचा ये टिटिहरा बड़ा अभिमानी है इसे एक बार सबक सीखा ही दिया जाय । 

समुद्र में एक विशाल ज्वार आया और टिटिहरे के अंडे को अपने साथ बहा ले गया । टिटिहरी जब घर लौटी तो अपने अंडों को समुद्र में बहता हुआ देख कर अत्यंत दुखी हो गयी । रोते बिलखते हुए उसने टिटिहरे को कहा – मूर्ख! मैंने लाख समझाने बुझाने की कोशिश की लेकिन तुमने अपने अभिमान मे डूब कर मेरी एक न सुनी । परिणाम देख ले आज उजाड़ दिया तूने अपना ही घर …….!


सीख इस कहानी की सीख यही है कि हमारे परिजन और हितचिंतक जो राय दें, उस पर हमें जरूर ध्यान देना चाहिए । बुद्धिमान भी वही व्यक्ति है जो भविष्य में आने वाली विपत्तियों से बाहर निकालने के उपायों को पहले से ही सोच ले । क्योंकि हर व्यक्ति हर समय अपने ऊपर आने वाली समस्या का तुरंत निदान नहीं सोच सकता | कुछ लोग सोच सकते हैं । 

जो इस उम्मीद मे जीता है कि जो होगा देखा जाएगा अक्सर समय उसे कुछ देखने लायक छोड़ता नहीं  है । 


कैसी लगी आपको यह कहानी अपने विचारों से हमें अवश्य अवगत कराएं आपकी सभी प्रकार की टिप्पणियों का कमेन्ट बॉक्स में स्वागत है । इस कहानी को अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल्स पर शेयर भी करे क्योंकि Sharing is Caring !

बने रहिये Vichar Kranti.Com के साथ । अपना बहुमूल्य समय देकर कहानी पढ़ने के लिए आभार ! आने वाला समय आपके जीवन में शुभ हो ! फिर मुलाकात होगी किसी नए आर्टिकल में ..

Advertisements

यदि आपको हमारा प्रयास अच्छा लगा हो तो इस लेख पर अपने विचार आगे comment box में लिख कर जरूर भेजें । इसे अपने दोस्तों के साथ social media पर भी शेयर करें एवं ऐसे ही अच्छी जानकारियों के लिए हमें सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर लें ।

निवेदन : – यदि आप हिन्दी में विविध विषयों पर अच्छा लिखते हैं या आपको अच्छा इमेज बनाने आता है या कोई ऐसी skill आपमें है जिसकी आप समझते हैं कि vicharkranti blog को जरूरत हो सकती है तो कृपया आप हमारे पेज work4vicharkranti पर जाकर अपना details सबमिट कीजिए । साथ ही हमें एक मेल भी डाल दीजिए हमारा email id है -contact@vicharkranti.com । हमारी टीम आपसे संपर्क कर लेगी ।

Advertisements
Khushboo
Khushboo
मैं हूँ खुशबू ! 5 से अधिक वर्षों का कंटेन्ट लिखने का अनुभव है । सही और नई चीजों के बारे में लिखना अच्छा लगता है । इस साइट की एडमिन हूँ । कंटेन्ट प्लानिंग , डिजाइन और optimization को भी देखती हूँ । एक गृहणी के साथ एक फुल टाइम ब्लॉगर हूँ । Follow me @

Subscribe to our Newsletter

हमारे सभी special article को सबसे पहले पाने के लिए न्यूजलेटर को subscribe करके आप हमसे फ्री में जुड़ सकते हैं । subscription confirm होते ही आप नए पेज पर redirect हो जाएंगे । E-mail ID नीचे दर्ज कीजिए..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

आपके लिए कुछ और पोस्ट

VicharKranti Student Portal

छात्रों के लिए कुछ positive करने का हमारा प्रयास । इस वेबसाईट का एक हिस्सा जहां आपको मिलेंगी पढ़ाई लिखाई से संबंधित चीजें ..