Monday, February 24, 2020
Home Motivational Article Swiggy शानदार कामयाबी का किस्सा-Swiggy the story of successful bussiness

Swiggy शानदार कामयाबी का किस्सा-Swiggy the story of successful bussiness

Advt.

आज जहां एक तरफ नौकरी और अच्छी नौकरी की चाहत में भारत का 95% हिस्सा सरकारी नौकरियों के पीछे भाग रहा है. तो कुछ युवा अपनी  मेहनत लगन और उद्यमिता  से कामयाबी  की नई इबारत लिख  रहे हैं. ऐसी ही असाधारण सफलता की साधारण कहानियों  की कड़ी में हम आज आपके लिए लेकर आए हैं सुप्रसिद्ध फूड डिलीवरी नेटवर्क Food Delivery Network-Swiggy के सफलता की कहानी…swiggy-and-its-founder

अगर आप यह ब्लॉग पोस्ट अपने Mobile, Tablet या Computer पर पढ़ रहे हैं तो कोई कारण नहीं है यह मानने का कि आप Swiggy के नाम से परिचित नहीं होंगे.  हां मैं उसी स्विगी की बात कर रहा हूं जिसके माध्यम से आप, हम और हमारे जैसे लाखों लोग प्रतिदिन अपनी पसंद का  खाना अपने पसंद की होटल अथवा रेस्टोरेंट से मंगा कर घर पर उस का आनंद लेते हैं.

हमारे व्यस्ततम जिंदगी को आसान बनाने के लिए और घर से दूर भी घर जैसा खाना हम तक पहुंचाने के लिए कुछ बनाने का विचार जिन तीन युवाओं के मन में आया उनके नाम है क्रमशः श्रीहर्ष मजेटी  नंदन रेड्डी और  राहुल जैमिनी.जी हां swiggy की स्थापना श्रीहर्ष मजेटी नंदन रेड्डी और  राहुल जैमिनी ने ही की .इतनी बड़ी कंपनी जिसे हम आज जानते हैं, यह इन युवाओं का कोई पहला स्टार्टअप नहीं था. इससे पहले भी इन्होंने  Item Delivery  के लिए एक लॉजिस्टिक्स कंपनी की स्थापना की थी. जहां अनुभव और तकनीक की कमी ने इन्हें असफल घोषित कर दिया.




 अपनी असफलता से इन्होंने हार नहीं मानी और कुछ और बड़ा करने का निर्णय लिया .बेहतर से बेहतर टेक्नोलॉजी के लिए विशेषज्ञों को अपने साथ लेकर पहली असफलता से सबक लिया.  नई योजना को क्रियान्वित करने से पहले जमीन पर अच्छे से सर्वे किया. एक सुदृढ़ कार्ययोजना के साथ 2014 में Swiggy (स्विगी) की शुरुआत  भारत के बेंगलुरु शहर से की. बेंगलुरु से शुरू हुआ यह बिजनेस आज भारत के तमाम बड़े शहरों के साथ दुनिया के बहुत सारे देश में सफलता और सेवा के नए कीर्तिमान गढ़ रहा है.

Present status and Revenue model:

महज वर्ष 2014 में स्थापित Swiggy कंपनी आज  अरबों रुपए की कंपनी हो गई है.  सेवा का यह क्षेत्र(online food delivery) जिससे कभी दलाली के नाम से जाना जाता था वहां नेटवर्किंग और कमीशन ने अपना कमाल दिखाया और महज 5 सालों में कंपनी का टर्नओवर अरबों रुपए का पहुंच गया है.स्विगी जैसी कंपनियां दो तरफा कमिशन चार्ज करती हैं एक तो रेस्टोरेंट्स  से नए लीड जनरेट करने के लिए और दूसरा फूड ऑर्डर करने वाले कस्टमर से खाना उनको उनके घर तक पहुंचाने के लिए. इससे कस्टमर्स को ग्राहकों को घर बैठे उनकी पसंद का खाना मिल जाता है और रेस्टोरेंट्स को उनके भोजन और उत्पादों को बेचने का जरिया

विज्ञापन

Recognition and funds

Swiggy  ने पूरे देश में फूड डिलीवरी का इतना खतरनाक  नेटवर्क बना रखा है कि भोजन आर्डर करते ही कुछ  मिनट में आपके पास पहुंच जाता है वह भी गरमा-गरम. अपनी विशाल फूड डिलीवरी नेटवर्क और कस्टमर्स के भरोसे के दम पर Swiggy ने व्यवसायिक दुनिया में वह मकाम हासिल किया है जो बहुत कम कंपनियों को नसीब होता है, इतने कम समय में. आज swiggy को लगभग 75 मिलियन डॉलर के फंड विभिन्न प्रतिष्ठित विदेशी निवेशकों से मिल चुके हैं.  India Forbes ने इसे  under 30 Magazine में शामिल किया तथा वर्ष 2017 के लिए Swiggy को इकोनामिक टाइम्स स्टार्टअप अवार्ड मिला.

यह सब फल उस कठोर मेहनत दूरदृष्टि  और अथक श्रम करने का परिणाम है, जो सफलता और प्रसिद्धि पाने से पहले, किसी को करना पड़ता है. क्योंकि कुछ पाने के लिए कुछ खोना भी पड़ता है इस दुनिया में कोई भी वस्तु कोई भी चीज मुफ्त में नहीं मिलती.

swiggy in hindi

Founders of Swiggy

Swiggy के तीन संस्थापकों में से पहले हर्ष मजेती आई आई एम इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट कोलकाता के एल्यूमिनी है . वह वर्ष 2014 से Swiggy के CEO भी हैं. नंदन रेड्डी ने  बिरला इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी &  साइंस से डिग्री कंप्लीट करने के बाद बहुत सारी कंपनियों जैसे कि GALLA,ZURNA,IDinsight & Intellecap में काम किया है . अभी स्विग्गी के ऑपरेशंस को देख रहे हैं ,वह Operation Department के हेड हैं. राहुल जैमिनी IIT Kharagpur के प्रोडक्ट हैं इससे पहले Myntra & NetApp में काम करने का उनका अनुभव है और अभी Swiggy के Cheif Technical Officer(CTO) हैं.

लेकिन इस कंपनी को स्थापित करने का मुख्य श्रेय जाता है श्रीहर्ष मजेटी को. इंजीनियरिंग के बाद 1 साल का गैप लेकर उन्होंने आईआईएम  कोलकाता से बिजनेस मैनेजमेंट में मास्टर्स किया और फिर उसके बाद लंदन के एक प्रतिष्ठित संस्थान में एक इन्वेस्टमेंट बैंकर के तौर पर भी काम किया. एक साक्षात्कार में उन्होंने बताया है कि लंदन उनके लिए काफी एक्साइटिंग जगह रहा है, लेकिन वहां की नौकरी शायद उतनी एक्साइटिंग नहीं थी. उस समय भारत में  स्टार्टअप पर ध्यान दिया जा रहा था और इन्हीं सब चीजों को देखकर हर्ष ने लंदन में अपनी नौकरी छोड़ने का निर्णय किया और वह भारत आ गए. जैसा वह सोच रहे थे कि उन्हें कहीं न कहीं किसी स्टार्टअप में मौका मिल जाएगा लेकिन ऐसा हुआ नहीं, तो फिर उनके मन में खुद का स्टार्टअप लगाने का ख्याल आ गया. उन्हें नया स्टार्टअप लगाने की प्रेरणा रेड बस के फनींद्र से मिली जो जब अपने  नए विचार दुनिया के सामने रख रहे थे; तो लोग उन्हें एक पागल व्यक्ति समझते थे और उनके विचार को दिवास्वप्न.  आज रेड बस ने सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित कर दिए हैं…..




 हर्ष ने नंदन से अपने स्टार्टअप और वह भी ई-कॉमर्स से संबंधित स्टार्टअप के बारे में बात करना शुरू किया. फिर दोनों ने अपने विचारों को अपने सपनों को वास्तविक धरातल पर लाने के लिए एक टेक्निकल पर्सन की कमी को बहुत शिद्दत से महसूस किया. उन्होंने अपने कई दोस्तों से संपर्क किया लेकिन कोई भी खतरा मोल लेने को तैयार नहीं था. अंततः उन्हें छोटे-छोटे वेंडर्स पर निर्भर होना पड़ा और काम में हुई देरी की वजह से मार्केट में तब तक फ्लिपकार्ट और अमेजन जैसे  प्लेटफॉर्म उसने स्वयं ही सामान को डिलीवरी करने का निर्णय ले लिया था. यह उनके पहले स्टार्टअप के लिए एक बड़ा झटका था जहां पर उनके लिए मार्केट का काफी छोटा हिस्सा बच गया था. उन्होंने   अपने स्टार्ट अप को वही समेट दिया लेकिन इस असफलता से मिली सीख Swiggy जैसे एक कामयाब प्लेटफॉर्म बनाने में काफी मददगार साबित हुआ…Logistics,Technology और असफलता से प्राप्त सीख उपयोग करते हुए उन्होंने अपने तीसरे Co-founder राहुल को अपने साथ जोड़ा और फिर Swiggy ने पीछे मुड़कर नहीं देखा है…

इस कंपनी की रफ्तार और ग्राहकों के मन में इसके प्रति विश्वास देखकर ऐसा लगता है कि यह तो अभी शुरूआत है कंपनी आगे और भी नए कीर्तिमान स्थापित करेगी… “अगर आपके मन में भी कोई नया विचार है तो उसे अपनी जिंदगी में अमल  में लाइए क्योंकि इस दुनिया को बदलने के लाखों ख्याल तो आज भी मुर्दा घरों में दफन है.”

ऐसे ही अन्य रोचक कहानियों के बारे में जानने को उत्सुक है तो जुड़े रहिए विचारक्रांति डॉट कॉम से.. सफलता की इस कहानी से संबंधित अपने विचार एवं सुझाव नीचे कमेंट बॉक्स में हम तक लिख भेजिए. हम मिलेंगे फिर किसी लेख में तब तक के लिए जय हिंद …..

Read This also:

  1. टॉप 5 किताबें जो आपको ज़रूर पढ़नी चाहिए
  2. मार्क टवेन के सुप्रसिद्ध विचार Mark Twain Quotes in Hindi

Thankyou

***

 

Admin
विचारक्रांति(Vichar-Kranti.Com) पर पढ़िए जीवनी, सफलता की कहानियां,प्रेरक तथ्य तथा जीवन से जुडी और भी बहुत कुछ और बनिए विचारक्रांति परिवार का हिस्सा . विचारक्रांति जीवन के हर क्षेत्र में....

2 COMMENTS

  1. महोदय, मैं आपकी साइट पर लेखन का कार्य करना चाहता हूं।आप मुझको पूरी प्रकिया बताने की कृपा करें। धन्यवाद

    • अभिषेक जी अपना ईमेल कांटेक्ट शेयर कीजिये फिर बात करतें हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

फ़ास्ट चार्जर(fast-charger) का उपयोग और जरूरी सावधानी

चार्जर और चार्जिंग के महत्व से हम सभी परिचित हैं.अपने सामान्य दैनिक कार्यों के अलावा कोई चीज जो हम प्रतिदिन करते हैं,...
- Advertisment -

Vichar-Kranti

पढ़िए जीवन बदलने वाले Ideas,महापुरुषों के प्रेरक वचन,जीवनी, करियर के विकल्प और भी बहुत कुछ...जुड़िये विचारक्रांति से

Advt.-
error: Content is protected !!