HomeHindiमाँ पर कुछ बेहतरीन कविताएं

माँ पर कुछ बेहतरीन कविताएं

ad-

अभी किसी ने मुझसे पूछा कि माँ पर कुछ लाइन्स लिखिए । मेरे सारे प्रयास मुझे व्यर्थ लगे सीमित लगे… इसलिए माँ पर लिखी गई कुछ बेहतरीन कविताओं को आपके सामने प्रस्तुत कर दिया । माँ की महत्ता को दर्शाती इस कविता संग्रह (poems on mother in Hindi) में उनके लिए उत्तर भी है और स्वयं के लिए सुकून भी । जगत में जीवन का अवतरण और अस्तित्व जिस के कारण संभव है, उस माँ पर कोई कलम भला क्या लिख सकता है ? मां त्याग,समर्पण,सेवा और ममता की प्रतिमूर्ति है साक्षात सजीव प्रतिमूर्ति … ! जगत में जीवन का अस्तित्व ही माँ की महिमा का गुणगान है ।

फिर भी हमने अपने ज्ञान अध्ययन व जानकारी के अनुसार हिंदी भाषा में आगे आपके लिए माँ पर लिखी कुछ प्रमुख कविताओं (poetry on maa in hindi )को एकत्रित किया है । उम्मीद है आपको हमारा प्रयास अच्छा लगेगा ।

Advertisements

कविताओं के इस संग्रह में से कोई न कोई कविता आपको जरूर पसंद आएगी ।

माँ पर लोकप्रिय कविताएं | Poem on Mother

#1 माँ!

माँ!
तुम्हारे सज़ल आँचल ने
धूप से हमको बचाया है।
चाँदनी का घर बनाया है।

तुम अमृत की धार प्यासों को
ज्योति-रेखा सूरदासों को
संधि को आशीष की कविता
अस्मिता, मन के समासों को

माँ!
तुम्हारे तरल दृगजल ने
तीर्थ-जल का मान पाया है
सो गए मन को जगाया है।

तुम थके मन को अथक लोरी
प्यार से मनुहार की चोरी
नित्य ढुलकाती रहीं हम पर
दूध की दो गागरें कोरी

माँ!
तुम्हारे प्रीति के पल ने
आँसुओं को भी हँसाया है
बोलना मन को सिखाया है।

-कुँवर बेचैन

#2 ओ मरु माँ!

ओ मरु माँ!
तुम प्यासी हो ना?
सदियों से अनबुझी है
ये तुम्हारी प्यास माँ
लेकिन अभी तू
मत हो ‘निरास’ माँ
तू जन्मदात्री है
जानती है माँ
प्रसव-पीड़ा बिन भला
जीवन जन्मता है क्या?
पीडा को झेल माँ
समझ ले इसे तू
नव जीवन का खेल माँ
किलकारियों का ध्यान कर
आँख बंद कर ले
साँस तेज़ होने दे पर
सिसकी मंद कर ले
आँखों में सपने ले-ले
होंठों को भींच ले माँ
आँसू का नीर पी ले
भीतर को सींच ले माँ
सदियों सही है पीड़ा
बस झेल और पल-भर
रेतीली कूख से माँ
तू जीवन पैदा कर ।

Advertisements

#3 जाती हुई धूप

जाती हुई धूप संध्या की
सेंक रही है माँ
अपना अप्रासंगिक होना
देख रही है माँ

भरा हुआ घर है
नाती पोतों से, बच्चों से
अन बोला बहुओं के बोले
बंद खिड़कियों से
दिन भर पकी उम्र के घुटने
टेक रही है माँ

फूली सरसों नही रही
अब खेतों में मन के
पिता नहीं हैं अब नस नस
क्या कंगन सी खनके
रस्ता थकी हुई यादों का
छेक रही है माँ

बुझी बुझी आँखों ने
पर्वत से दिन काटे हैं
कपड़े नहीं, अलगनी पर
फैले सन्नाटे हैं
इधर उधर उड़ती सी नजरें
फेक रही है माँ

यश मालवीय

#4 मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं

मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं।
फूल से पंखुरी जैसे झरती रही॥

जन्म लेते ही माँ ने दुलारा बहुत,
अपनी ममता निछावर करती रही।
मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

वक़्त के हाथों में, मैं बड़ी हो गई,
माँ की चिन्ता की घड़ियाँ बढ़ती रहीं।
मेरी साँ सों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

ब्याह-कर मैं पति के घर आ गई,
माँ की ममता सिसकियाँ भरती रही।
मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

छोड़कर माँ को,दिल के दो टुकड़े हुए,
फिर भी जीवन का दस्तूर करती रही।
मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

वक़्त जाता रहा मैं तड़पती रही,
माँ के आंचल को मैं तो तरसती रही।
मेरी सांसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

एक दिन मैं भी बेटी की माँ बन गई,
अपनी ममता मैं उस पर लुटाती रही।
मेरी सांसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

देखते-देखते वह बड़ी हो गई,
ब्याह-कर दूर देश में बसती रही।
मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

टूटकर फिर से दिल के हैं टुकड़े हुए,
मेरी ममता भी पल-पल तरसती रही।
मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

वक़्त ढ़लता रहा, सपने मिटते रहे,
इक दिन माँ न रही, मैं सिसकती रही।
मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

सब कुछ मिला पर माँ न मिली,
माँ की छबि ले मैं दिल में सिहरती रही।
मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

फूल मुरझा के इक दिन जमीं पर गिरा,
मेरी साँसों की घड़ियाँ दफ़न हो रहीं।
मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

जीवन का नियम यूँ ही चलता रहे,
ममता खोती रही और मिलती रही।
मेरी साँसों की घड़ियाँ बिखरती रहीं॥

कवि- रमा द्विवेदी

#5 मेरी ही यादों में खोई

मेरी ही यादों में खोई
अक्सर तुम पागल होती हो
माँ तुम गंगा-जल होती हो!
माँ तुम गंगा-जल होती हो!

जीवन भर दुःख के पहाड़ पर
तुम पीती आँसू के सागर
फिर भी महकाती फूलों-सा
मन का सूना संवत्सर
जब-जब हम लय गति से भटकें
तब-तब तुम मादल होती हो।

व्रत, उत्सव, मेले की गणना
कभी न तुम भूला करती हो
सम्बन्धों की डोर पकड कर
आजीवन झूला करती हो
तुम कार्तिक की धुली चाँदनी से
ज्यादा निर्मल होती हो।

पल-पल जगती-सी आँखों में
मेरी ख़ातिर स्वप्न सजाती
अपनी उमर हमें देने को
मंदिर में घंटियाँ बजाती
जब-जब ये आँखें धुंधलाती
तब-तब तुम काजल होती हो।

हम तो नहीं भगीरथ जैसे
कैसे सिर से कर्ज उतारें
तुम तो ख़ुद ही गंगाजल हो
तुमको हम किस जल से तारें।
तुझ पर फूल चढ़ाएँ कैसे
तुम तो स्वयं कमल होती हो।

कवि -जयकृष्ण राय तुषार

#6 माँ के लिए सम्भव नहीं होगी मुझसे कविता

माँ के लिए सम्भव नहीं होगी मुझसे कविता
अमर चिऊँटियों का एक दस्ता मेरे मस्तिष्क में रेंगता रहता है
माँ वहाँ हर रोज़ चुटकी-दो-चुटकी आटा डाल देती है
मैं जब भी सोचना शुरू करता हूँ
यह किस तरह होता होगा
घट्टी पीसने की आवाज़ मुझे घेरने लगती है
और मैं बैठे-बैठे दूसरी दुनिया में ऊँघने लगता हूँ
जब कोई भी माँ छिलके उतार कर
चने, मूँगफली या मटर के दाने नन्हीं हथेलियों पर रख देती है
तब मेरे हाथ अपनी जगह पर थरथराने लगते हैं
माँ ने हर चीज़ के छिलके उतारे मेरे लिए
देह, आत्मा, आग और पानी तक के छिलके उतारे
और मुझे कभी भूखा नहीं सोने दिया
मैंने धरती पर कविता लिखी है
चन्द्रमा को गिटार में बदला है
समुद्र को शेर की तरह आकाश के पिंजरे में खड़ा कर दिया
सूरज पर कभी भी कविता लिख दूँगा
माँ पर नहीं लिख सकता कविता!

कवि – चंद्रकांत देवताले

#7 अनायास आज भी यह मन- पंछी

अनायास आज भी यह मन- पंछी
उड़कर वहाँ पहुँच जाता है
जहाँ कभी इच्छा और समाधान
दोनो का अद्भुत आलाप हुआ था
माँ के आँचल को पकड़कर
आँगन बीच खड़ी कर
आसमां की ओर उँगली दिखाकर
चाँद को पाने की जिद्द किया था
तब माँ ने बहुत समझाया था
गोद में उठाकर, सीने से लगाकर
बहलाने का अथक प्रयास किया था
पर शिशुतावश, मैं माननेवाला कहाँ था
तब माँ पानी से भरे थाली में
आँगन बीच मेरे लिए
आसमां से चाँद उतार लाई थी
और मुझे अपने आलिंगन में भरकर
माया की प्रतिमा-सी, असीमता का परिचय दी थी
चाँद को पाकर मैं बहुत खुश हुआ था
सोचता था, मेरी माँ कितनी बलशाली है
इतनी बलशाली तो दिन- रात, बक- बक
करने वाली, दादी माँ भी नहीं है
वरना चाँद को पकड़कर, दादी माँ नहीं दी होती
पानी और थाली, घर में पहले भी थी
जब की चाँद को पाने की जिद्द
मैंने उनसे भी कई बार किया था

कवि – तारा सिंह

#8 हम एक शब्द हैं तो वह पूरी भाषा है

हम एक शब्द हैं तो वह पूरी भाषा है
हम कुंठित हैं तो वह एक अभिलाषा है
बस यही माँ की परिभाषा है.

हम समुंदर का है तेज तो वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम एक शूल है तो वह सहस्त्र ढाल प्रखर

हम दुनिया के हैं अंग, वह उसकी अनुक्रमणिका है
हम पत्थर की हैं संग वह कंचन की कृनीका है

हम बकवास हैं वह भाषण हैं हम सरकार हैं वह शासन हैं
हम लव कुश है वह सीता है, हम छंद हैं वह कविता है.

हम राजा हैं वह राज है, हम मस्तक हैं वह ताज है
वही सरस्वती का उद्गम है रणचंडी और नासा है.

हम एक शब्द हैं तो वह पूरी भाषा है.
बस यही माँ की परिभाषा है.

शैलेश लोढ़ा -उर्फ मेहता जी

#9 मेरा बच्चा, जब हँसता,

मेरा बच्चा,
जब हँसता,
रोता,
अठखेलियाँ करता है,
ऐसा लगता है
मानों लौट आया हो
बचपन मेरा.
बच्चे को देख
जब ख़ुश होती हूँ तो
महसूस होता है
तुम मुझ में खड़ी–
मुझी को निहारती हो…
माँ! तुम याद बहुत आती हो…

पता है माँ,
बच्चे को जब दुलारती हूँ,
प्यार करती हूँ,
सोए को जगाती हूँ,
रूठे को मनाती हूँ,
वही बातें मुहँ से निकलती हैं
जो तुम
मुझे कहा करती थी–
मेरे होंठों से लोरी भी तुम्हीं सुनाती हो…
माँ! तुम याद बहुत आती हो…

सुना तुमने,
मैं वैसे ही गुस्सा हुई
बच्चे पर,
जैसे तुम मुझ पर होती थी,
आवाज़ भी वही
और अंदाज़ भी वही.
कुदरत की कैसी यह लीला है?
माँ बनने के बाद,
माँ की महिमा
और भी बढ़ जाती है–
पल-पल इसका आभास कराती हो…
माँ! तुम याद बहुत आती हो…

हर माँ,
हर लड़की में बसती है,
माँ बनने के बाद वह उभरती है.
नया कुछ नहीं
किस्सा सब पुराना है
सदियों से चला आ रहा फसाना है–
इस बात को ढंग से समझाती हो…
माँ! तुम याद बहुत आती हो…

क्षण-क्षण,
बच्चे में ख़ुद को
ख़ुद में तुम को पाती हूँ,
ज़िन्दगी का अर्थ,
अर्थ से विस्तार,
विस्तार से अनन्त का
सुख पाती हूँ–
मेरे अन्तस में दर्प के फूल खिलाती हो…
माँ! तुम याद बहुत आती हो…

कवि – सुधा ॐ ढींगरा

#10-चिंतन दर्शन जीवन सर्जन

चिंतन दर्शन जीवन सर्जन
रूह नज़र पर छाई अम्मा
सारे घर का शोर शराबा
सूनापन तनहाई अम्मा

उसने खुद़ को खोकर मुझमें
एक नया आकार लिया है,
धरती अंबर आग हवा जल
जैसी ही सच्चाई अम्मा

सारे रिश्ते- जेठ दुपहरी
गर्म हवा आतिश अंगारे
झरना दरिया झील समंदर
भीनी-सी पुरवाई अम्मा

घर में झीने रिश्ते मैंने
लाखों बार उधड़ते देखे
चुपके चुपके कर देती थी
जाने कब तुरपाई अम्मा

बाबू जी गुज़रे, आपस में-
सब चीज़ें तक़सीम हुई तब-
मैं घर में सबसे छोटा था
मेरे हिस्से आई अम्मा

आलोक श्रीवास्तव

#11 चूल्हे की जलती रोटी सी

चूल्हे की
जलती रोटी सी
तेज आँच में जलती माँ !
भीतर -भीतर
बलके फिर भी
बाहर नहीं उबलती माँ !

धागे -धागे
यादें बुनती ,
खुद को
नई रुई सा धुनती ,
दिन भर
तनी ताँत सी बजती
घर -आँगन में चलती माँ !

सिर पर
रखे हुए पूरा घर
अपनी –
भूख -प्यास से ऊपर ,
घर को
नया जन्म देने में
धीरे -धीरे गलती माँ !

फटी -पुरानी
मैली धोती ,
साँस -साँस में
खुशबू बोती ,
धूप -छाँह में
बनी एक सी
चेहरा नहीं बदलती माँ !

कौशलेन्द्र

#12 माँ की आँखें

कविता -माँ की आँखें

मेरी माँ की डबडब आँखें
मुझे देखती हैं यों
जलती फ़सलें, कटती शाखें।
मेरी माँ की किसान आँखें!

मेरी माँ की खोई आँखें
मुझे देखती हैं यों
शाम गिरे नगरों को
फैलाकर पाँखें।
मेरी माँ की उदास आँखें।

माँ की आँखें / श्रीकांत वर्मा

#13 बूढ़ी माँ ने धोकर दाने

बूढ़ी माँ ने धोकर दाने
आँगन में रख दिए सुखाने
धूप पड़ी तो हुए सुहाने
आई चिड़ियाँ उनको खाने

आओ बच्चो आओ चलकर
बूढ़ी माँ की मदद करें हम
चलो उड़ा दें दानों पर से
बजा बजा कर ताली हम तुम

वर्ना सोचो क्या खाएगी
वह तो भूखी रह जाएगी
चिड़ियों की यह फौज नहीं तो
सब दानें चट कर जाएगी।

आओ बच्चो आओ चलकर
बूढ़ी माँ का काम करें हम
नहीं हैं बच्चे उनके घर में
चलो न चलकर काम करें हम

कवि- दिविक रमेश

#14 माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती

माँ

मुनव्वर राणा

हँसते हुए माँ बाप की गाली नहीं खाते
बच्चे हैं तो क्यों शौक़ से मिट्टी नहीं खाते

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बाँ बच्चे समझते हैं
सगी है या कि सौतेली है माँ बच्चे समझते हैं

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह

सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे ‘राना’
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती

तार पर बैठी हुई चिड़ियों को सोता देख कर
फ़र्श पर सोता हुआ बेटा बहुत अच्छा लगा हँसते

#15 माँ कह एक कहानी

“माँ कह एक कहानी।”
बेटा समझ लिया क्या तूने मुझको अपनी नानी?”
“कहती है मुझसे यह चेटी, तू मेरी नानी की बेटी
कह माँ कह लेटी ही लेटी, राजा था या रानी?
माँ कह एक कहानी।”

“तू है हठी, मानधन मेरे, सुन उपवन में बड़े सवेरे,
तात भ्रमण करते थे तेरे, जहाँ सुरभि मनमानी।”
“जहाँ सुरभि मनमानी! हाँ माँ यही कहानी।”

वर्ण वर्ण के फूल खिले थे, झलमल कर हिमबिंदु झिले थे,
हलके झोंके हिले मिले थे, लहराता था पानी।”
“लहराता था पानी, हाँ-हाँ यही कहानी।”

“गाते थे खग कल-कल स्वर से, सहसा एक हंस ऊपर से,
गिरा बिद्ध होकर खग शर से, हुई पक्ष की हानी।”
“हुई पक्ष की हानी? करुणा भरी कहानी!”

चौंक उन्होंने उसे उठाया, नया जन्म सा उसने पाया,
इतने में आखेटक आया, लक्ष सिद्धि का मानी।”
“लक्ष सिद्धि का मानी! कोमल कठिन कहानी।”

“मांगा उसने आहत पक्षी, तेरे तात किन्तु थे रक्षी,
तब उसने जो था खगभक्षी, हठ करने की ठानी।”
“हठ करने की ठानी! अब बढ़ चली कहानी।”

हुआ विवाद सदय निर्दय में, उभय आग्रही थे स्वविषय में,
गयी बात तब न्यायालय में, सुनी सभी ने जानी।”
“सुनी सभी ने जानी! व्यापक हुई कहानी।”

राहुल तू निर्णय कर इसका, न्याय पक्ष लेता है किसका?
कह दे निर्भय जय हो जिसका, सुन लूँ तेरी बानी”
“माँ मेरी क्या बानी? मैं सुन रहा कहानी।

कोई निरपराध को मारे तो क्यों अन्य उसे न उबारे?
रक्षक पर भक्षक को वारे, न्याय दया का दानी।”
“न्याय दया का दानी! तूने गुनी कहानी।”

कवि – मैथिलीशरण गुप्त

#16 धरती माँ के बच्चे।

ये जो देख रहो हो
तुम फूलों के गुच्छे
ये भी हैं तुम जैसे
धरती माँ के बच्चे।

इन्हें देखकर मधुर
गीत, पंछी गाते हैं
थकी हुई आँखों में
सपने तिर जाते हैं।

उजली रातों में ये
लगते नभ के तारे
दिन में इंद्रधनुष-से
मोहक प्यारे-प्यारे।

जब तक ये हैं,तब तक
भू पर सुंदरता है
भोली-भाली परियों
की-सी कोमलता है।

पौधों की डालों पर
इनको मुसकाने दो,
दुनिया के आँगन में
ख़ुशबू भर जाने दो।

#17 माँ

हम हर रात
पैर धोकर सोते है
करवट होकर।
छाती पर हाथ बाँधकर
चित्त
हम कभी नहीं सोते।

सोने से पहले
माँ
टुइयाँ के तकिये के नीचे
सरौता रख देती है
बिना नागा।
माँ कहती है
डरावने सपने इससे
डर जाते है।

दिन-भर
फिरकनी-सी खटती
माँ
हमारे सपनों के लिए
कितनी चिन्तित है!

कवि – राजेश जोशी

#18 माँ

माँ अपने अँधेरे को
कहती नहीं
सुनती है
फिर हमें उससे दूर रखने के लिए
चुपचाप
सुबह का सपना बुनती है
माँ
हमारी तकलीफ में
उपस्थिति रहती है
अपनी तकलीफ से मोहलत लेकर
हमारी दुनिया में
माँ के अलावा भी
और बहुत कुछ
माँ की दुनियाँ में
सिर्फ एक औरत
सदियों से
हमारे सिवा
माँ की दहलीज़ हम
जिसे लाँघती नहीं वह
सपने में भी
हमारे लिए
आँगन
जिसमें खलते-खेलते
एक दिन हम
भीड़ में शामिल हो जाते अचानक
माँ
नहीं होती भीड़
इसलिए
भीड़ के लिए
मंगल कामना के साथ
चुपचाप लौट जाती
अपने भीतर प्रतीक्षारत
औरत के पास
माँ एक नदी है
बेशक हमारे लिए
पर अपने लिए
वह एक औरत है
अपने ही जल के लिए छटपटाती

माँ
हमारे लिए
एक उत्तर
अपने लिए एक सवाल
युग-युग से
माँ का यही हाल।

कवि – केशव

#19

मुझको हर हाल में बख़्शेगा उजाला अपना
चाँद रिश्ते में तो लगता नहीं मामा अपना

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना

हम परिन्दों की तरह उड़ के तो जाने से रहे
इस जनम में तो न बदलेंगे ठिकाना अपना

धूप से मिल गए हैं पेड़ हमारे घर के
हम समझते थे कि काम आएगा बेटा अपना

सच बता दूँ तो ये बाज़ार-ए-मुहब्बत गिर जाए
मैंने जिस दाम में बेचा है ये मलबा अपना

आइनाख़ाने में रहने का ये इनआम मिला
एक मुद्दत से नहीं देखा है चेहरा अपना

तेज़ आँधी में बदल जाते हैं सारे मंज़र
भूल जाते हैं परिन्दे भी ठिकाना अपना

#20

ममता की मूरत
क्या सीरत क्या सूरत थी
माँ ममता की मूरत थी

पाँव छुए और काम बने
अम्मा एक महूरत थी

बस्ती भर के दुख सुख में
एक अहम ज़रूरत थी

सच कहते हैं माँ हमको
तेरी बहुत ज़रूरत थी

-मंगल नसीम

#21 वो है मेरी माँ।

वो है मेरी माँ
मेरे सर्वस्व की पहचान
अपने आँचल की दे छाँव
ममता की वो लोरी गाती
मेरे सपनों को सहलाती
गाती रहती, मुस्कराती जो
वो है मेरी माँ।

प्यार समेटे सीने में जो
सागर सारा अश्कों में जो
हर आहट पर मुड़ आती जो
वो है मेरी माँ।

दुख मेरे को समेट जाती
सुख की खुशबू बिखेर जाती
ममता की रस बरसाती जो
वो है मेरी माँ।

देवी नांगरानी

#22

तुम एक गहरी छाव है अगर तो जिंदगी धूप है माँ
धरा पर कब कहां तुझसा कोई स्वरूप है माँ

अगर ईश्वर कहीं पर है उसे देखा कहां किसने
धरा पर तो तू ही ईश्वर का रूप है माँ, ईश्वर का कोई रुप है माँ

नई ऊंचाई सच्ची है नए आधार सच्चा है
कोई चीज ना है सच्ची ना यह संसार सच्चा है

मगर धरती से अंबर तक युगो से लोग कहते हैं
अगर सच्चा है कुछ जग में तो माँ का प्यार सच्चा है

जरा सी देर होने पर सब से पूछती माँ,
पलक झपके बिना घर का दरवाजा ताकती माँ

हर एक आहट पर उसका चौक पड़ना, फिर दुआ देना
मेरे घर लौट आने तक, बराबर जागती है माँ

सुलाने के लिए मुझको, तो खुद ही जागती रही माँ
सहराने देर तक अक्सर, मेरे बैठी रही माँ

मेरे सपनों में परिया फूल तितली भी तभी तक थे।
मुझे आंचल में लेकर अपने लेटी रही माँ।

बड़ी छोटी रकम से घर चलाना जानती थी माँ
कमी थी बड़ी पर खुशियाँ जुटाना जानती थी माँ।

मै खुशहाली में भी रिश्तो में दुरी बना पाया।
गरीबी में भी हर रिश्ता निभाना जानती थी माँ।

दिनेश रघुवंशी

#23

मम्मी मां मम्मा अम्मा, मइया माई
जब जैसे पुकारा, मां अवश्य आई
कहा सब ने मां ऐसी होती है मां वैसी होती है
पर सच में, मां कैसी होती है
सुबह सवेरे, नहा धोकर, ठाकुर को दिया जलातीं
हमारी शरारतों पर भी थोड़ा मुस्काती
फिर से झुक कर पाठ के श्लोक उच्चारती
मां की यह तस्वीर कितनी पवित्र होती है
शाम ढले, चूल्हा की लपकती कौंध से जगमगाता मुखड़ा
सने हाथों से अगली रोटी के, आटे का टुकड़ा
गीली हथेली की पीठ से, उलझे बालों की लट को सरकाती
मां की यह भंगिमा क्या गरीब होती है?
रोज-रोज, पहले मिनिट में परांठा सेंकती
दूसरे क्षण, नाश्ते की तश्तरी भरती
तेज क़दमों से, सारे घर में, फिरकनी सी घूमती
साथ-साथ, अधखाई रोटी, जल्दी-जल्दी अपने मुंह में ठूसती
मां की यह तस्वीर क्या इतनी व्यस्त होती है?
इन सब से परे, हमारे मानस में रची बसी
सभी संवेदनाओं के कण-कण में घुली मिली
हमारे व्यक्तित्व के रेशे से हर पल झाँकती
हम सब की मां, कुछ कुछ ऐसी ही होती है।
(इला कुमार)

#24

2) मां को बूढ़ा होते देख

चुपके चुपके मन ही मन में, खुद को रोते देख रहा हूं
बेबस होके अपनी मां को बूढ़ा होके देख रहा हूं…
रचा है बचपन की आंखों में, खिला खिला सा मां का रूप..
जैसे जाड़े के मौसम में, नरम-नरम मखमल सी धूप
धीरे-धीरे सपनों के इस रूप को खोते देख रहा हूं
बेबस होके अपनी मां को बूढ़ा होके देख रहा हूं…
छूट गया है धीरे धीरे मां के हाथ का खाना भी
छीन लिया है वक्त ने उसकी बातों से भरा खजाना भी
घर की मालकिन को घर के कोने में सोते देख रहा हूं
चुपके चुपके मन ही मन में, खुद को रोते देख रहा हूं
चुपके चुपके मन ही मन में, खुद को रोते देख रहा हूं…..

माँ पर हर व्यक्ति के पास कहने के लिए कुछ न कुछ होता है एक अबोध जीवन को असाधारण बनाने वाली माता के बारे में क्या कहा जाए । हर बार लगता है जो कुछ भी कहा जाएगा शायद वो कम होगा । हम सबका वर्तमान , हमारी उपलब्धियां विशेषताएं सब के सब उस माँ की त्याग का ही तो प्रतिफल है ।

अपने विचार और अपनी प्रिय रचना के बारे में comment box में अपने विचार जरूर लिखिए।

Advertisements
Khushboo
Khushboo
मैं हूँ खुशबू ! घूमने फिरने का शौक है और नई एवं सही चीजों के बारे में लिखने का जुनून । इस वेबसाइट की अधिकांश चीज आपकी नजर तक पहुँचने से पहले मेरी नजरों से होकर गुजरती है । विचारक्रान्ति वेबसाईट को अधिक उपयोगी और लोकप्रिय बना सकूं इसी उम्मीद में लिखना जारी है । Follow me @

Subscribe to our Newsletter

हमारे सभी special article को सबसे पहले पाने के लिए न्यूजलेटर को subscribe करके आप हमसे फ्री में जुड़ सकते हैं । subscription confirm होते ही आप नए पेज पर redirect हो जाएंगे । E-mail ID नीचे दर्ज कीजिए..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

आपके लिए कुछ और पोस्ट

VicharKranti Student Portal

छात्रों के लिए कुछ positive करने का हमारा प्रयास । इस वेबसाईट का एक हिस्सा जहां आपको मिलेंगी पढ़ाई लिखाई से संबंधित चीजें ..