Homeकरियर(Career)मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव कैसे बने | Medical Representative kaise bane

मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव कैसे बने | Medical Representative kaise bane

अगर आप दवाइयों के बारे में अच्छी समझ रखते हैं या आपने दवाइयों से संबंधित कोई डिग्री हासिल की है या संबंधित क्षेत्र में आपकी रुचि है तो उसके बाद आप मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव बनकर अपने करियर की बेहतरीन शुरुआत कर सकते हैं। मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव(Medical Representative ) को शॉर्ट फॉर्म में एमआर या MR भी कहा जाता है। जो कि फार्मास्यूटिकल्स कंपनियों और डॉक्टर के बीच एक मध्यस्थ का कार्य करता है। एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव तमाम तरह की दवाइयों, औषधियों और चिकित्सीय उपकरणों आदि का ज्ञान रखता है। साथ ही उसे दवाइयों की मार्केटिंग के संबंध में भी अच्छी खासी जानकारी होती  है। ऐसे में इस लेख –Medical Representative kaise bane में हम आपको यही बताने वाले हैं कि कैसे आप एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव बन सकते हैं? तो चलिए शुरू करते हैं।

करियर का महत्व

स्वास्थ्य क्षेत्र में जैसे-जैसे दिन प्रति दिन नई तकनीक और अनुसंधान के माध्यम से जटिल रोगों के निदान संबंधित खोज की जा रही है। नई नई दवाओं की खोज के साथ विभिन्न कंपनियां बाजार में उतर रहीं हैं ठीक उसी प्रकार से मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव की मांग भी बढ़ती जा रही है। चूंकि दवाइयों के बिना कोई भी व्यक्ति रोगों से छुटकारा नहीं पा सकता है, ऐसे में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव की यहां ज़िम्मेदारी और आवश्यकता दोनों ही बढ़ जाती है।

एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव बनकर आप विभिन्न प्रकार की दवाइयों का प्रचार-प्रसार और उसको बेचने का कार्य करते हैं। प्रत्येक फार्मा कंपनी यही चाहती है कि उसकी दवाइयां बाजार में अधिक से अधिक बिके। साथ ही डॉक्टर भी उनकी कंपनी का मेडिकल प्रोडक्ट सबसे अधिक इस्तेमाल करने की सलाह दें। जिसके लिए फार्मा कंपनियां बी फार्मा/ डी फार्मा के डिग्री होल्डर्स की मांग करती है। इसलिए इस क्षेत्र में भविष्य की बढ़ती संभावनाओं के चलते आप खुद को स्थापित करके नाम और पैसा दोनों ही कमा सकते हैं।

मुख्य कार्य (कार्य के प्रकार) और योगदान

एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव का मुख्य कार्य दवाइयों की बिक्री करना होता है। लेकिन इसके साथ ही एक रिप्रेजेंटेटिव होने के चलते उसे दवाइयों की मार्केटिंग से जुड़ी रणनीतियां बनाने पर भी ध्यान देना होता है।

बतौर मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव आपको दवाइयों से जुड़ी कंपनी और स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े डॉक्टर, मेडिकल स्टोर्स समेत अन्य संबंधित पक्ष से संपर्क साधना पड़ता है। जिसके लिए आपसे अपेक्षा की जाती है कि आपके पास अच्छी कम्युनिकेशन स्किल्स हो। साथ ही आप हर प्रकार की दवाइयों के बारे में जानकारी रखते हों।

इसके अलावा एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव बनकर आप सबसे पहले दवाइयों का सैंपल लेकर स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े व्यक्तियों जैसे डॉक्टर, मेडिकल स्टोर्स आदि के पास जाते हैं, जहां आप अपने मेडिकल प्रोडक्ट के बारे में समस्त जानकारी उसे प्रदान करते हैं।

जिसके बाद सबंधित व्यक्ति आपके मेडिकल प्रोडक्ट को उपयोगी समझकर आपसे उसे खरीदने की बात करता है और आपको ऑर्डर देता है। फिर आप फार्मा कंपनी तक ऑर्डर पहुंचाते हैं और आपके माध्यम से दवाइयों की बिक्री इत्यादि का कार्य संपन्न किया जाता है।

मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव ना केवल दवाइयों की बिक्री अपितु उत्पाद या कंपनी से जुड़ी हर जानकारी से उपभोक्ता को रूबरू कराता है। इस दौरान की जाने वाली कई प्रकार की कागजी कार्यवाही भी मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के द्वारा ही संपन्न की जाती है।

वह मेडिकल कंपनियों द्वारा आयोजित की जाने वाली वार्षिक और मासिक बैठकों में भाग लेता है। साथ ही बाजार की आवश्यकताओं के अनुरूप स्वयं को जागरूक रखता है। ताकि मेडिकल उत्पाद कर्ता और उपयोग कर्ता के मध्य व्यवसायिक व्यवहार सुचारू बना रहे।

आवश्यक योग्यता

Medical Representative kaise bane में आगे पढिए संबंधित योग्यता और कोर्स एवं सैलरी से संबंधित अन्य बातें – एमआर (MR) बनने के लिए आपके पास 12वीं के बाद बी फार्मा (bachelor of pharmacy) या स्नातक के बाद डी फार्मा (diploma in pharmacy) की डिग्री होना अनिवार्य है। इसके साथ ही आपके भीतर निम्न विशेषताएं भी होना जरूरी है:-

  • एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव में संवाद की शैली बेहतरीन होनी चाहिए।
  • उसे दवाइयों के प्रति अपने  ज्ञान को सदैव अपडेट करते रहना चाहिए।
  • उसकी नेटवर्क बनाने एवं मार्केटिंग पर भी अच्छी पकड़ होनी चाहिए।
  • उसकी बॉडी लैंग्वेज और पर्सनैलिटी उसके प्रोडक्ट की तरह ही प्रभावी होनी चाहिए, ताकि उसके अन्य व्यक्तियों से अच्छे व्यापारिक संबंध स्थापित हो सकें।
  • अंग्रेजी और हिंदी दोनों ही भाषाओं पर उसकी अच्छी पकड़ होनी चाहिए।

प्रमुख कोर्स और परीक्षाएं

मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव बनने के लिए आपका 12वीं उत्तीर्ण होना आवश्यक है। जिसके बाद आप निम्न कोर्स करके एमआर (MR) बन सकते हैं।

  • Bachelor of pharmacy
  • BSC nursing and paramedica
  • BSC biology
  • Diploma in pharmacy (after graduation)
  • Master’s in pharmacy

कोर्स के प्रकार एवं अवधि

उपरोक्त कोर्स की अवधि 1 साल से लेकर 3 साल तक होती है। जिसके अंतर्गत आपको दवाइयों के निर्माण और नवाचार से जुड़ी समस्त बातों का अध्ययन कराया जाता है। इसके बाद आपको देश के मान्यता प्राप्त मेडिकल परिषद से मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव बनने के लिए प्रशिक्षण लेना होता है। जिसके बाद आपको उचित लाइसेंस और प्रमाण पत्र की प्राप्ति होती है, तभी आपको एमआर (MR) की आवश्यक योग्यताओं के अनुरूप पाया जाता है।

प्रमुख कॉलेज

आप एमआर (MR) बनने के लिए देश में संचालित विभिन्न निजी और सरकारी शिक्षण संस्थानों से फार्मेसी की डिग्री हासिल कर सकते हैं। जिसके लिए आपको निजी संस्थान में 4 से लेकर 5 लाख तक फीस देनी पड़ सकती है। जबकि सरकारी संस्थान से करने पर आपको यह निजी संस्थान की अपेक्षा सस्ता पड़ सकता है। सरकारी संस्थान में प्रवेश के लिए आपको प्रवेश परीक्षा या मेरिट प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। फार्मेसी की पढ़ाई करने के लिए आप निम्न कॉलेज या अपनी पसंद के हिसाब से किसी भी शिक्षण संस्थान का चुनाव कर सकते हैं।

  • Jamia hamdard, Delhi
  • Punjab University, chandigarh
  • Department of Pharmaceutics Institute of Technology, BHU (Banaras)
  • Dr. K N modi Institute of Pharmaceutical Education & research, AKTU, (Lucknow)
  • Acharya Narendra Deo college of pharmacy, Uttar Pradesh technical University

करियर विकल्प

एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव बनने के लिए आप खुद को किसी भी फार्मा कंपनी के साथ जोड़कर अपने करियर की शुरुआत कर सकते है। जहां आपको प्रशिक्षण भी दिया जाता है। जिसके बाद आप अनुभव और समय के साथ साथ प्रगति करते हैं।

बतौर मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव आप किसी कंपनी में आरंभ में फील्ड वर्क कर सकते हैं। इसके बाद आप अपने कार्य के आधार पर एरिया मैनेजर, डिप्टी मार्केटिंग मैनेजर, डिविजनल कंट्रोलर, जोनल मैनेजर, मार्केटिंग मैनेजर, प्रोडक्ट मैनेजर, सर्कल मैनेजर, ब्रांड मैनेजर आदि भी बन सकते हैं।

वेतन

जैसा कि हमने आपको बताया कि फार्मा के क्षेत्र में करियर की अपार संभावनाएं हैं। ऐसे में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव बनने के बाद शुरुआती दिनों में आपको 15-20 हजार रुपए वेतन के तौर पर मिलते है। इसके बाद जैसे जैसे आपको अनुभव हो जाता है, वैसे ही आपकी आमदनी भी बढ़ती जाती है।

यहां आप अनुभव के आधार पर हजारों से लाखों तक कमा सकते हैं, केवल तब जब आप स्वयं को फार्मा के क्षेत्र में अपडेट रखेंगे और नित्य नई चीजें सीखने के लिए उत्सुक रहेंगे। तभी आप एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के तौर पर अपने करियर को बुलंदियों तक पहुंचा सकेंगे।

आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा Medical Representative kaise bane के संबंध में दी गई उपरोक्त जानकारी अवश्य पसंद आई होगी। ऐसे ही करियर से जुड़े अन्य महत्वपूर्ण लेख पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर आते रहिए !

विचारक्रान्ति के लिए – अंशिका

Vichar Kranti
विचारक्रांति टीम (Vichar-Kranti.Com) - चंद उत्साही लोगों की टीम जो आप तक पहुंचाना चाहते हैं सही और जीवनोपयोगी सूचनाओं के साथ जीवन बदलने वाले सकारात्मक विचारपुंजों को । उदेश्य सिर्फ एक कि - सब आगे बढ़े और सबके साथ हम भी ! आप भी अगर कुछ अच्छा लिखते हैं, तो जुड़ जाईये न हमारे साथ ... मिलकर कुछ अच्छा करते हैं ...! संपर्क सूत्र : contact@vicharkranti.com जय विचारक्रांति !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

कुछ नए पोस्ट्स

संबद्ध लिंक अमेजन -

पढिए अच्छी किताबों मे
सफलता के सीक्रेट

Vichar-Kranti

पढ़िए जीवन बदलने वाले Ideas,महापुरुषों के प्रेरक वचन,जीवनी, करियर के विकल्प और भी बहुत कुछ...जुड़िये विचारक्रांति से

error: Content is protected !!