Home Inspiring story हिंदी लघु कथा दहेज़

हिंदी लघु कथा दहेज़

दहेज

“क्यों रो रहे हो, हुआ क्या है ?”
इतना सुनते ही रसिकलाल  अपने मित्र रूपचंद के कंधों पर सिर रख कर और जोर-जोर से रोने लगा. थोड़ा सम्हलने पर कहने लगा : “रूपचंद अब और हो भी क्या सकता है? होने को बचा भी क्या है? ” तुम तो मेरे सुख-दुख के सहभागी हो. हम दोनों ने किस तरह दिन रात परिश्रम करके अपने घर परिवार को चलाया है, बच्चों को पढ़ाया लिखाया आगे बढ़ाया है.अपने जीवन  सुखों को तिलांजलि देकर बच्चों की सुविधाओं का ध्यान रखा है? ये कोई तुम से छुपा नहीं है .उनको लगी खरोच पर रातें आँखों में जागकर गुजर दिये हैं … क्या क्या नहीं किया हमने उनके लिए …और वो ..? 😳 “






जान कर भी अनजान बनते हुए रूपचंद ने पुछा :- आखिर हो क्या गया ?
रूपचंद मैं कल रात ही शहर से लौट रहा हूं. बदल गया ..सब कुछ बदल गया, दुनिया बदल गई; लोग बदल गए .. हे राम अब हम जिए तो जिए कैसे ??

और तो और अपना बच्चा भी बदल गया यार …ओहो हो हो … पढ़ लिख कर बहुत बड़ा बन गया अब अपने ही माँ बाप को अनपढ़ नासमझ जाहिल नालायक और पता नहीं क्या-क्या समझने लगा है.शादी के बाद तो उसको न जाने क्या हो गया. अपने आप में गुमसुम सा रहता है. न जाने किस दुख को सहता है हम गर पूछते हैं कुछ उससे  बातें बनाता है पर कुछ नहीं कहता है. जिंदगी इतनी परेशानियां ले आएगी ऐसा तो मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था .देख लिया सब देख लिया
जब बेटा काम के सिलसिले में बहार गया बहु ने न जाने कौन सा खुन्नस निकाला .

AD

नए लोगों के तो आँखों का पानी ही सुख गया है जैसे …!

अपमान की आग में जलता हुआ रातोरात घर आ गया ,लेकिन आगे का कुछ समझ नहीं आ रहा है …?
रूपचंद बोलने लगा -“रसिकलाल चिंता मत करो,तुम्हारा बेटा बुरा नहीं है . भगवान इंसान की परीक्षा लेते हैं चरित्र और चिंतन में सुधार लाने के लिए. तुम्हारा बेटा जरूर लौटकर तुम्हारे पास आएगा और बहू को भी सन्मति आएगी…तुम धीर धरो .”

लेकिन, एक बात कहूं तुम्हें यह पुण्यलाभ इसलिए हुआ है कि तुमने दहेज लेने में तो कोई कोताही नहीं की. दहेज में मिली मोटी रकम को अपनी स्टेटस बता कर कब तक गांव में घूम रहे थे शायद अकल ठीक करने के लिए भगवान कुछ कर रहे हैं……

इतना कह रूपचंद मुस्कुराता हुआ आंगन से निकल गया .रसिकलाल रूपचंद की बातों से अवाक् होकर अनमने से ठकमुरा कर बैठ गया .शायद वह यही सोच रहा था कि दहेज़ लेकर जो पाप उसने कमाए हैं परमात्मा उसका हिसाब कर रहा है …
सार: जबरदस्ती दहेज़ वसूलना गुनाह है. सहमत हैं तो शेयर करिये पोस्ट को…
फिर मिलेंगे….धन्यवाद …!

                                                  ***

विज्ञापन





AD
Admin
विचारक्रांति(Vichar-Kranti.Com) पर पढ़िए जीवनी, सफलता की कहानियां,प्रेरक तथ्य तथा जीवन से जुडी और भी बहुत कुछ और बनिए विचारक्रांति परिवार का हिस्सा . विचारक्रांति जीवन के हर क्षेत्र में....

इस पोस्ट पर अपनी प्रतिक्रिया,अपनी बातें यहां नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर हम तक जरूर भेजिए.सभी नए पोस्ट के ईमेल नोटिफिकेशन पाने के लिए नीचे चेकबॉक्स को टिक करिये. धन्यवाद...!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

कुछ नए पोस्ट्स

परोपकार का फल -प्रेरक हिन्दी कहानी

भारतीय दर्शन में तो परोपकार की बड़ी महिमा बताई गई है...

TRP क्या है और टीवी के लिए कैसे महत्वपूर्ण है ?

आजकल जिस तरह से टीआरपी से जुड़े मुद्दे सामने आ रहे...

Communication Skill सुधारने के 9 टिप्स हिन्दी में

Communication Skill in Hindi: इस लेख में आप जान पाएंगे कम्यूनिकेशन...

दुर्गापूजा पर निबंध Druga Puja Essay in Hindi

दुर्गापूजा पर निबंध: शारदीय नवरात्र बहुत समीप है तो हमने...

Hindi Handwriting सुधारने के 9 सूत्र

Hindi Handwriting:अच्छा लिखना हम सब की ईच्छा होती है लेकिन सभी...

कौन है दुनियां का सबसे अमीर आदमी -2020 में

चलिए जानते हैं इस आर्टिकल में कि - 2020 में कौन...

भगत सिंह के 21 क्रांतिकारी विचार-Bhagat Singh Quotes Hindi

इस पोस्ट(bhagat singh quotes) को हमने समर्पित किया है महान क्रांतिकारी...

EWS in Hindi-पढ़िए EWS से जुड़े सभी प्रश्नों के उत्तर

इस आर्टिकल(ews in hindi) को पूरा पढ़ने के उपरांत आप ईडब्ल्यूएस...
संबद्ध लिंक अमेजन -

पढिए अच्छी किताबों मे
सफलता के सीक्रेट

Vichar-Kranti

पढ़िए जीवन बदलने वाले Ideas,महापुरुषों के प्रेरक वचन,जीवनी, करियर के विकल्प और भी बहुत कुछ...जुड़िये विचारक्रांति से

error: Content is protected !!