HomeInspiring storyहिंदी लघु कथा दहेज़

हिंदी लघु कथा दहेज़

दहेज

“क्यों रो रहे हो, हुआ क्या है ?”
इतना सुनते ही रसिकलाल  अपने मित्र रूपचंद के कंधों पर सिर रख कर और जोर-जोर से रोने लगा. थोड़ा सम्हलने पर कहने लगा : “रूपचंद अब और हो भी क्या सकता है? होने को बचा भी क्या है? ” तुम तो मेरे सुख-दुख के सहभागी हो. हम दोनों ने किस तरह दिन रात परिश्रम करके अपने घर परिवार को चलाया है, बच्चों को पढ़ाया लिखाया आगे बढ़ाया है.अपने जीवन  सुखों को तिलांजलि देकर बच्चों की सुविधाओं का ध्यान रखा है? ये कोई तुम से छुपा नहीं है .उनको लगी खरोच पर रातें आँखों में जागकर गुजर दिये हैं … क्या क्या नहीं किया हमने उनके लिए …और वो ..? 😳 “






जान कर भी अनजान बनते हुए रूपचंद ने पुछा :- आखिर हो क्या गया ?
रूपचंद मैं कल रात ही शहर से लौट रहा हूं. बदल गया ..सब कुछ बदल गया, दुनिया बदल गई; लोग बदल गए .. हे राम अब हम जिए तो जिए कैसे ??

Advertisements

और तो और अपना बच्चा भी बदल गया यार …ओहो हो हो … पढ़ लिख कर बहुत बड़ा बन गया अब अपने ही माँ बाप को अनपढ़ नासमझ जाहिल नालायक और पता नहीं क्या-क्या समझने लगा है.शादी के बाद तो उसको न जाने क्या हो गया. अपने आप में गुमसुम सा रहता है. न जाने किस दुख को सहता है हम गर पूछते हैं कुछ उससे  बातें बनाता है पर कुछ नहीं कहता है. जिंदगी इतनी परेशानियां ले आएगी ऐसा तो मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था .देख लिया सब देख लिया
जब बेटा काम के सिलसिले में बहार गया बहु ने न जाने कौन सा खुन्नस निकाला .

नए लोगों के तो आँखों का पानी ही सुख गया है जैसे …!

अपमान की आग में जलता हुआ रातोरात घर आ गया ,लेकिन आगे का कुछ समझ नहीं आ रहा है …?
रूपचंद बोलने लगा -“रसिकलाल चिंता मत करो,तुम्हारा बेटा बुरा नहीं है . भगवान इंसान की परीक्षा लेते हैं चरित्र और चिंतन में सुधार लाने के लिए. तुम्हारा बेटा जरूर लौटकर तुम्हारे पास आएगा और बहू को भी सन्मति आएगी…तुम धीर धरो .”

लेकिन, एक बात कहूं तुम्हें यह पुण्यलाभ इसलिए हुआ है कि तुमने दहेज लेने में तो कोई कोताही नहीं की. दहेज में मिली मोटी रकम को अपनी स्टेटस बता कर कब तक गांव में घूम रहे थे शायद अकल ठीक करने के लिए भगवान कुछ कर रहे हैं……

इतना कह रूपचंद मुस्कुराता हुआ आंगन से निकल गया .रसिकलाल रूपचंद की बातों से अवाक् होकर अनमने से ठकमुरा कर बैठ गया .शायद वह यही सोच रहा था कि दहेज़ लेकर जो पाप उसने कमाए हैं परमात्मा उसका हिसाब कर रहा है …
सार: जबरदस्ती दहेज़ वसूलना गुनाह है. सहमत हैं तो शेयर करिये पोस्ट को…
फिर मिलेंगे….धन्यवाद …!

                                                  ***





Advertisements
Admin
विचारक्रांति(Vichar-Kranti.Com) पर पढ़िए जीवनी, सफलता की कहानियां,प्रेरक तथ्य तथा जीवन से जुडी और भी बहुत कुछ और बनिए विचारक्रांति परिवार का हिस्सा . विचारक्रांति जीवन के हर क्षेत्र में....

Subscribe to our Newsletter

हमारे सभी special article को सबसे पहले पाने के लिए न्यूजलेटर को subscribe करके आप हमसे फ्री में जुड़ सकते हैं । subscription confirm होते ही आप नए पेज पर redirect हो जाएंगे । E-mail ID नीचे दर्ज कीजिए..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

VicharKranti Student Portal

छात्रों के लिए कुछ positive करने का हमारा प्रयास | इस वेबसाईट का एक हिस्सा जहां आपको मिलेंगी पढ़ाई लिखाई से संबंधित चीजें ..

कुछ नए पोस्ट्स

amazon affiliate link

पढिए अच्छी किताबों में
सफलता के सीक्रेट