Homeकरियर(Career)engineering के बाद कोर्स करियर एवं भविष्य |Post B tech Career Options

engineering के बाद कोर्स करियर एवं भविष्य |Post B tech Career Options

वैज्ञानिक खोजों और अनुसन्धानों का उपयोग करके जीवन को सहज सरल और आसान बनाने हेतु उपकरणों यंत्रों और अन्य संरचनाओं का निर्माण ही engineering है । जितने भी वैज्ञानिक आविष्कार हुए हैं उनको आम जनता तक पहुंचाने में इंजीनियरों की बड़ी भूमिका है । एक इंजीनियर का काम होता है स्थापित वैज्ञानिक सिद्धांतों के आधार पर डिज़ाइन को विकसित करना उनका टेस्ट और इवैल्यूएशन करना ।

” An engineer Design evaluate develop test modify install inspect maintain a very wide variety of products and system.”

इंजीनियरिंग पढ़ाई की एक शाखा है जिसमें तकनीकी विषयों के बारे में पढ़ाया जाता है । इंजीनियरिंग का अंडर ग्रेजुएट कोर्स बीटेक के नाम से प्रसिद्ध है । पूरे भारत में बीटेक का कोर्स 4 साल का होता है । जिसमें पहले साल तो सामान्य विषयों की पढ़ाई होती है बाकी के अगले 3 साल विद्यार्थियों द्वारा चुने गए विषय विशेष के विभिन्न तथ्यों की जानकारी उन्हें दी जाती है । इंजीनियरिंग के अलग -अलग ब्रांच है जिसमें संबंधित विषय की पढ़ाई कारवाई जाती है ।

engineering

Engineering-कोर्स

इन कोर्स के दौरान विद्यार्थियों को विभिन्न विषयों के सैद्धांतिक और प्रायोगिक पक्षों की जानकारी दी जाती है । विद्यार्थियों को उनके द्वारा चुने गए ब्रांच से संबंधित विषय में स्थापित वैज्ञानिक सिद्धांतों की जानकारी दी जाती है फिर उन्हीं सिद्धांतों को प्रयोगशाला में कर के दिखाया जाता है ।

तो इस तरह से इंजीनियरिंग में पढ़ाई के साथ-साथ प्रयोगों ( जो कि लेबोरेटरी में किए जाते हैं ) का विशेष महत्व होता है ।

इंजीनियरिंग में थ्योरी की पढ़ाई के साथ विद्यार्थियों को प्रैक्टिकल , इंडस्ट्रियल विजिट और इंटर्नशिप भी करवाया जाता है ताकि उन्हें रियल टाइम एक्सपिरियन्स प्राप्त हो सके विभिन्न उद्योगों का । तो इंजीनियरिंग के 3 प्रमुख अवयव हुए ।

  • Theory+Practical
  • Industrial Visit
  • & Internship

इंजीनियरिंग के विभिन्न ब्रांच

  • इलैक्ट्रिकल
  • मैकानिकल
  • इलेक्ट्रॉनिक्स
  • सिविल
  • कम्प्युटर साइन्स

Engineering में दाखिला प्रक्रिया

वैसे तो आज इतनी संख्या में इंजीनियरिंग कॉलेज बन गए हैं कि आप बिना कुछ जाने और नाम मात्र की योग्यता के साथ भी इंजीनियरिंग की डिग्री ले सकते हैं । चूंकि शिक्षा और उसमें भी व्यावसायिक शिक्षा का व्यापार वर्तमान में हमारे देश का सबसे फलता फूलता व्यापार माना जाता है ।

लेकिन यदि आप सच में एक इंजीनियर बनना चाहते हैं तो आपको भारत के टॉप 100 कॉलेज में से किसी एक से अपनी डिग्री लेनी चाहिए । जहां आपको उत्कृष्ट प्रयोगशाला , अच्छे शिक्षकों के साथ अच्छी गुणवत्ता वाली शिक्षा मिलेगी ।

आप अच्छे से विभिन्न प्रयोगों को जान पाएंगे और खुद से कर भी पाएंगे । विभिन्न उपकरणो से रूबरू हो पाएंगे । ये बातें भविष्य में आपको एक अच्छा इंजीनियर बनने में मदद करेंगी इस क्षेत्र में आपकी रुचि बढ़ेगी ।

अब पूरे देश में लगभग 7000 से 8000 कॉलेज में से यदि आप टॉप 100 में एडमिशन लेना चाहते हैं ,तो आपको अपने आप को तो साबित करना ही पड़ेगा । ये दिखाना पड़ेगा कि आपमें एक अच्छा इंजीनियर बनने हेतु आवश्यक पैमाने पर खड़ा उतारने का माद्दा है ।

इसके लिए राष्ट्रीय स्तर और राज्य स्तर पर प्रतियोगिताएं आयोजित होती हैं । इन प्रतियोगी परीक्षाओं में बैठ कर तथा इनको सफलता पूर्वक पास कर जब आप अपना स्थान देश के कुछ सबसे अच्छे इंजीनीयरिंग कॉलेज के लिए सुरक्षित कर लेते हैं तो फिर आपको काउंसिलिंग के लिए बुलाया जाता है ।

काउंसिलिंग में आपकी रैंक और आपकी चाही गयी कॉलेज एवं ब्रांच में तालमेल बैठा कर आपके लिए विशेष कॉलेज और ब्रांच को सुरक्षित कर दिया जाता है । जहां जाकर आप अपने नामांकन एडमिशन की प्रक्रिया को अंजाम देते हुए अपनी पढ़ाई करते हैं ।

जरूरी क्या क्या है ? (Requisite)

इंजीनियरिंग में एडमिशन के लिए कुछ योग्यताएँ निर्धारित की गयी हैं जिसको पूरा करने के बाद ही आप इन इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षाओं में बैठ सकते हैं और अपने इंजीनियर बनने के सपने को पूरा कर सकते हैं ।

वो योग्यताएँ हैं

10+2 में पीसीएम यानि कि 12 वीं कक्षा में आपकी फिजिक्स , केमिस्ट्री और मैथ होना चाहिए । यानि की 12 वीं कक्षा में आपके लिए फिजिक्स , केमिस्ट्री और मैथ की पढ़ाई अनिवार्य है ।

राष्ट्रीय परीक्षाएँ (National Entrance)

इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए विभिन्न परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं जिनमें राष्ट्रीय स्तर पर JEE की परीक्षा एक प्रतिष्ठित परीक्षा है । इसमें अच्छा स्कोर और स्थान सुरक्षित करके आप अपने लिए एक अच्छे कॉलेज में दाखिले को सुरक्षित कर सकते हैं ।
अन्य प्रवेश परीक्षा हैं – WBJEE , इत्यादि ….

B.Tech के बाद की पढ़ाई

बीटेक तो इंजीनियरिंग की शुरुआती डिग्री है । इसके बाद आपके लिए संभावनाओं के नए द्वार खुल जाते हैं । आप चाहे तो नौकरी कर सकते हैं, जिसकी चर्चा हम आगे करने वाले हैं या फिर अपनी पढ़ाई को आगे जारी रख सकते हैं ।

बी टेक में तो आपके अपने द्वारा चुने गए ब्रांच में , संबंधित विषय के बारे में एक आधारभूत जानकारी बनाने के लिए उस विषय से जुड़े सभी चीजों के बारे में आपको पढ़ना पड़ता है । उन सभी में से किसी एक में यदि आप विशेषज्ञता हासिल करना चाहते हैं तो आप आगे किसी एक विषय को लेकर MTech कर सकते हैं । यदि अपने ज्ञान को और अधिक पैना और मजबूत करना चाहते हैं ,आपकी आर्थिक स्थिति आपके अनुकूल है तो आप आगे पीएचडी भी कर सकते हैं । इस तरह से आप उस संबंधित विषय में आप विशेषज्ञों की श्रेणी में आ जाएंगे।

M Tech के बाद आपके लिए विशेषज्ञता वाले पदों के द्वार खुल जाते हैं । आप इंजिनीयरिंग और तकनीकी विषय के शिक्षक के रूप में भी अपने करियर को आगे बढ़ा सकते हैं ।

बी टेक के बाद एक दूसरा रास्ता मैनेजमेंट की तरफ भी जाता है । यदि आप बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन पर अपनी पकड़ को मजबूत करना चाहते हैं, तो आपको एमबीए करना चाहिए । इससे भी आपके करियर में आगे बढ़ने के लिए ,आपके लिए मौके बढ़ेंगे और आपकी योग्यता के आधार पर एक अच्छी सैलरी भी आपको मिलेगी ।

B.Tech के बाद नौकरी

हम अपने आस-पास जो भी चीज देखते हैं सब में engineering का एक टच तो है । चाहे वह हमारे किचन का गैस और लाइटर हो या पर्सनल कंप्यूटर मोटरसाइकिल से लेकर वायुयान ही क्यों न हो !

जब हर चीज में इंजीनियर है तो इस क्षेत्र में विशेष योग्यता रखने वालों के लिए नौकरी और रोजगार की कमी नहीं होगी और जी हाँ कमी बिलकुल है भी नहीं । अपनी b tech की डिग्री कंप्लीट करने के बाद आप के लिए मुख्य रूप से दो प्रकार की नौकरियां उपलब्ध रहने वाली हैं ।

  1. सरकारी नौकरी
  2. प्राइवेट नौकरी

जहां सरकारी नौकरियों की एक सीमा है तो वहीं प्राइवेट क्षेत्र में ज्यादा नौकरियां हैं । अमूमन कॉलेज की प्रतिष्ठा के हिसाब से उसमें कंपनियां जाती हैं । इसलिए हमने ऊपर भी आपको अपनी इंजीनियरिंग अच्छे College से करने की सलाह दी है ।लेकिन कुछ सरकारी कंपनियां भी फ्रेशर को मौका देती हैं और सीधे कैम्पस प्लेसमेंट के जरिये एक सीमित संख्या में लोगों की भर्ती करती हैं ।

इसके अलावा गेट की परीक्षा में बैठ कर और अच्छा स्कोर कार्ड पाकर आप अपने लिए पीएसयू में नौकरी सहित किसी प्रतिष्ठित कॉलेज से M.Tech की डिग्री हासिल करने के सपने को साकार कर सकते हैं ।

इसके अलावा बीटेक के बाद आपको एक स्नातक की डिग्री तो मिल जाती है । तो बाकी सरकारी नौकरियों के लिए आप स्वतः योग्य हो जाते हैं । आपके लिए आईएएस और आईपीएस की तैयारी के लिए भी रास्ते खुले हुए ही हैं ।

आजकल एक अच्छी संख्या में इंजीनियर प्रशासनिक पदों पर पहुँच रहें हैं ,तो ये रास्ते भी आपके लिए उपलब्ध रहेंगे ।इसके अलावा देश और दुनियाँ के विभिन्न निजी कंपनियों में आपको अपनी योग्यता का लोहा मनवाने का मौका हमेशा हमेशा के लिए उपलब्ध ही रहेगा ।

अंतिम विचार

engineering वास्तव में एक बेहतरीन कोर्स और करियर है । एक अच्छे इंजीनीयर के लिए काम की कभी कमी नहीं होने वाली है लेकिन एक अच्छा इंजीनियर बनना अपने आप एक चुनौतीपूर्ण निर्णय और कठिन कार्य है ।

क्योंकि इंजीनियरिंग कोई बाबूगिरी वाला काम नहीं है कि कुर्सी पर बैठ कर सारा दिन काम करना है । यहाँ आपको शुरुआत में काम को सीखने और काम को करने के लिए पसीना बहाना पड़ेगा । शुरू में आप जितना शारीरिक और मानसिक परिश्रम करेंगे आपकी क्षमता और दक्षता उतनी ही बढ़ेगी ।

हाँ कुछ साल परिश्रम करने के बाद जब आप अपने संबंधित कंपनी में प्रमोशन लेकर ऊपर जाएंगे तो आपको श्रम करने की जरूरत नहीं रह जाएगी । हाइयर लेवल पर आपका काम अपनी टीम और मैन पावर को मैनेज करना रहेगा । जहां आप का काम एक टीम और अपने नीचे काम करने वाले लोगों के प्रबंधन का रहेगा ।

आपको काम करने से अधिक करवाना रहेगा । लेकिन एक कटु सत्य है कि जब आप को खुद पता होगा कि काम कैसे होगा तभी तो आप किसी से ठीक ढंग से काम करवा सकते हैं । यही कैसे होगा वाला पार्ट थोड़ा कठिन है बाकी तो दुनिया में जो भी है सब इंजीनियरिंग ही है ।

और इसी ने हमें पहाड़ की कंदराओं से निकाल कर चाँद तक पहुंचाया है । नित नए अनुसंधान को देख कर आप सहज ही उम्मीद कर सकते हैं कि इंजीनियरिंग का भविष्य कितना उज्जवल है लेकिन ये भविष्य सिर्फ उन्हीं के लिए है जो दिल से engineer है ।

–इति–

हमें पूरा विश्वास है कि engineering में करियर से संबंधित हमारा यह लेख आपको पसंद आया होगा ,त्रुटि अथवा किसी भी अन्य प्रकार की टिप्पणियां नीचे कमेंट बॉक्स में सादर आमंत्रित हैं …लिख कर जरूर भेजें ! इस लेख को अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल्स पर शेयर भी करे क्योंकि Sharing is Caring !

बने रहिये Vichar Kranti.Com के साथ । अपना बहुमूल्य समय देकर लेख पढ़ने के लिए आभार ! आने वाला समय आपके जीवन में शुभ हो ! फिर मुलाकात होगी किसी नए आर्टिकल में ..

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो आपको हमारा फेसबुक पेज जरुर पसंद आएगा…! हमसे जुड़ने के लिए इस लिंक >> विचारक्रांति फेसबुक पेज << पर क्लिक करके आप हमसे Facebook पर जुड़ सकतें हैं

निवेदन : – हमें अपनी टीम में ऐसे लोगों की जरूरत है जो हिन्दी में अच्छा लिख सकते हों । यदि आप हमारी टीम में एक कंटेन्ट राइटर के रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आगे दिए गए ईमेल पते पर मेल कीजिए । प्रत्येक लेख और आपकी लेखन क्षमता के हिसाब से उचित राशि प्रदान की जाएगी ।


इसके अलावा यदि कोई धनराशि प्राप्त किए बिना, आप हिंदी में कुछ मोटिवेशनल अथवा अन्य आर्टिकल लिख कर हमारा सहयोग करना चाहते हैं तो भी आपका स्वागत है ! लिख भेजिए अपने फोटो के साथ हमारे Email पते पर । हम उसे समीक्षा के पश्चात आपके नाम से प्रकाशित कर देंगे । हमसे जुड़ने के लिए संपर्क कीजिये Email :contact@vicharkranti.com

Vichar Kranti
विचारक्रांति टीम (Vichar-Kranti.Com) - चंद उत्साही लोगों की टीम जो आप तक पहुंचाना चाहते हैं सही और जीवनोपयोगी सूचनाओं के साथ जीवन बदलने वाले सकारात्मक विचारपुंजों को । उदेश्य सिर्फ एक कि - सब आगे बढ़े और सबके साथ हम भी ! आप भी अगर कुछ अच्छा लिखते हैं, तो जुड़ जाईये न हमारे साथ ... मिलकर कुछ अच्छा करते हैं ...! संपर्क सूत्र : contact@vicharkranti.com जय विचारक्रांति !

इस पोस्ट पर अपनी प्रतिक्रिया,अपनी बातें यहां नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर हम तक जरूर भेजिए.सभी नए पोस्ट के ईमेल नोटिफिकेशन पाने के लिए नीचे चेकबॉक्स को टिक करिये. धन्यवाद...!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

कुछ नए पोस्ट्स

संबद्ध लिंक अमेजन -

पढिए अच्छी किताबों मे
सफलता के सीक्रेट

Vichar-Kranti

पढ़िए जीवन बदलने वाले Ideas,महापुरुषों के प्रेरक वचन,जीवनी, करियर के विकल्प और भी बहुत कुछ...जुड़िये विचारक्रांति से

error: Content is protected !!