Homeकरियर(Career)बीफार्मा के बाद करियर | B Pharma Career Options

बीफार्मा के बाद करियर | B Pharma Career Options

बी.फार्मा जिसका full form होता है Bachelor of Pharmacy , औषधि निर्माण एवं औषधियों की बारीक समझ को विकसित करने की दिशा में गंभीर विद्यार्थियों के लिए एक अच्छा कोर्स है । स्वास्थ्य हमेशा से और सबके लिए अहम रहा है । विभिन्न देशों की सरकार स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने में धन और ध्यान दोनों लगा रही है ऐसे में मेडिकल इंडस्ट्री एक प्रमुख रोजगार प्रदाता क्षेत्र के रूप में उभर रही है और फार्मेसी या औषधि निर्माण इस इंडस्ट्री का एक प्रमुख हिस्सा है । यदि आप औषधि निर्माण में करियर बनाना चाहते हैं अथवा आप अभी B Pharmacy कर रहें हैं , तो यह लेख –बीफार्मा के बाद करियर B Pharma Career Options आपके लिए उपयोगी होगा । चलिए आगे जानते हैं बी फार्मा एवं संबंधित करियर विकल्पों बारे में …

बी.फार्मा क्या है?

बी फार्मा यानि Bachelor of pharmacy के अंतर्गत दवाइयों का निर्माण , दवाओं का अनुसंधान एवं उनके परीक्षणों का अध्ययन किया जाता है। बी.फार्मा एक प्रोफेशनल कोर्स है, जिसमें  दवाइयों का निर्माण, खोज औऱ प्रयोग की जानकारी दी जाती है। दवाओं के फॉर्मूलेशन से लेकर उसके गुणवत्ता निर्धारण तक की प्रक्रिया की जानकारी इस कोर्स में दी जाती है ।

फार्मेसी हेल्थ केयर उद्योग का एक अहम क्षेत्र होता है जिसके अंतर्गत दवाओं की खोज, दवाओं के उत्पादन एवं वितरण जैसे कार्य आते हैं ।

नामांकन हेतु योग्यता एवं प्रक्रिया

इस कोर्स में प्रवेश के लिए 10+2 की पढ़ाई साइंस स्ट्रीम से पूरी करने के बाद आपको राष्ट्रीय अथवा राज्यस्तरीय परीक्षा में भाग लेकर सफल होना पड़ता है । उसके बाद आपके रैंक के अनुसार आपको अलग अलग कॉलेज में प्रवेश दिया जाता है ।

राष्ट्रीय स्तर पर GPAT -Graduate Pharmacy Aptitude Test नामक परीक्षा का आयोजन होता है एवं राज्य स्तर पर भी अलग-अलग राज्य परीक्षाओं का आयोजन करते हैं । जैसे बंगाल में WBJEE, बिहार में – BCECE ,तेलंगाना एवं आंध्रप्रदेश में TS-EAMCET एवं AP- EAMCET एवं उत्तरप्रदेश में UPSEE आदि पारीक्षाओं का आयोजन किया जाता है ।

इसके अलावा विभिन्न निजी कॉलेज एवं विश्वविद्यालय भी अपने स्तर पर प्रवेश परीक्षाओं का आयोजन करते हैं । कुछ संस्थानों में डायरेक्ट admission भी होता है 12 वीं में अर्जित किए गए अंकों के आधार पर ।

बी फार्मा की फीस

कहीं कोई मानक फीस तो स्थापित नहीं किया गया है लेकिन आपको लगभग 30000 से लेकर ₹100,000/- रुपया प्रतिवर्ष तक खर्च लग सकता है।  अलग-अलग संस्थानों एवं विश्वविद्यालयों में फीस का अलग अलग निर्धारण होता है । ऐसे में एक अनुमान के मुताबिक 4 साल की पढ़ाई में आपको कि लगभग एक लाख से लेकर ₹5, 00,000 तक फीस के रूप में लग सकता है ।  बाकी खर्चा को खुद करना पड़ेगा।

B Pharma Career Optionsबी.फार्मा एवं करियर संभावनाएं

फार्मासिस्ट

बी.फार्मा करने के बाद आप किसी भी फार्मास्युटिकल कंपनी में बतौर फार्मासिस्ट कार्य़ कर सकते हैं। किसी भी सार्वजनिक या निजी फार्मास्युटिकल कंपनी में फार्मेसी स्टूडेंट्स की काफी डिमांड बनी रहती है। 

बी फार्मा कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आपके लिए संभावनाओं के नए द्वार खुल जाते है ।  इस कोर्स को संपन्न करने के बाद आप विभिन्न फार्मास्यूटिकल कंपनी में एक फार्मासिस्ट के रूप में कार्य कर सकते हैं । सार्वजनिक तथा निजी, दोनों ही क्षेत्र की फार्मास्यूटिकल कंपनियों में बी फार्मा करने वाले स्टूडेंट्स की काफी मांग रहती है । 

आप औषधि निर्माण उद्योग से जुड़कर स्वयं को इस क्षेत्र में स्थापित कर सकते हैं। एक फार्मासिस्ट के तौर पर आप खुद का मेडिकल बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं या एक medical representative बनकर भी अपने फार्मा करियर की शुरुआत कर सकते हैं।

आजकल अपना मेडिकल शॉप खोलने के लिए आपको लाइसेंस की जरूरत होती है । इस कोर्स के पश्चात आपको license मिल जाता है और आप एक  रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट बन जाते हैं ।

रिसर्चर 

रिसर्चर- बी.फार्मा के बाद भी अगर आप अपनी आगे की पढ़ाई जारी रखना चाहते हैं, तो एम.फार्मा या पीएचडी कर सकते हैं । इन डिग्री के बाद आप किसी कंपनी या संस्थान के साथ जुड़कर मेडिकल रिसर्चर के तौर पर भी काम कर सकते हैं।

आप चाहे तो मेडिकल रिसर्च करने के बाद खुद को एक औषधि वैज्ञानिक के तौर पर भी स्थापित कर सकते हैं। जिसके बाद आप नई दवाइयों की खोज और उसको विकसित करने की तकनीक पर कार्य करते हैं। साथ ही कोई नई दवा कितनी सुरक्षित और प्रभावी है, इसका परीक्षण करना भी एक मेडिकल रिसर्चर का कार्य होता है।

टीचिंग

अगर पढ़ाने में आनंद आता है तो, तो आप बी.फार्मा एवं एम फार्मा करने के पश्चात् किसी भी प्राइवेट या सरकारी मेडिकल कॉलेज में अध्यापक के तौर पर पढ़ा सकते हैं। हालांकि कहीं-कहीं आपसे मेडिकल टीचिंग में मेडिकल इंडस्ट्री का अनुभव एवं एम.फार्मा की डिग्री मांगते हैं।

लेकिन यदि आप बी.फार्मा को करने के बाद मेडिकल क्षेत्र की अच्छी जानकारी रखते हैं, तो इस क्षेत्र में अध्यापक बनकर अपने करियर की अच्छी शुरुआत कर सकते हैं। जहां आप अपने ज्ञान और अनुभव के आधार पर छात्रों को मेडिकल के क्षेत्र का बेहतरीन ज्ञान दे सकते हैं।

मार्केटिंग/सेल्स

किसी भी कंपनी की सफलता उसके सेल्स टीम पर बहुत हद तक निर्भर करती है । किसी भी उत्पाद को बेचने के लिए प्रभावी मार्केटिंग स्किल्स बहुत जरूरी होता है । ऐसे में यदि आपकी संवादशैली अच्छी है, और आपको प्रोडक्ट की अच्छी जानकारी है एवं आपमें मार्केटिंग करने की क्षमता है, तो आप बी.फार्मा के बाद मेडिकल क्षेत्र में मार्केटिंग और सेल्स की ओर कदम बढ़ा सकते हैं।

अच्छी संवादशैली के लिए पढिए यह लेख : communication skills सुधारने के टिप्स

जहां आप दवाइयों की बिक्री में अपना योगदान देकर अपनी कंपनी को फायदा पहुंचा सकते हैं । बदले में कंपनी भी आपको आपके करियर में उचित प्रोन्नति एवं वेतन के साथ अन्य सुविधाएं देंगी ।

प्रोडक्शन

बी. फार्मा करने के बाद आप दवा निर्माण करने वाली कंपनियों के साथ जुड़कर भी कार्य कर सकते हैं। जहां आप दवाओं के निर्माण में प्रयुक्त रसायन के इस्तेमाल एवं दवाओं के निर्माण के बाद टेस्टिंग और दवा के प्रभाव का अध्ययन करने में अपने ज्ञान का उपयोग कर सकते हैं ।

साथ ही आप दवाओं के रख रखाव से जुड़कर बतौर सुपरवाइजर भी किसी संस्थान के साथ काम कर सकते हैं।

क्वालिटी कंट्रोल

किसी भी दवा के विकसित होने के बाद उसके परिणाम कितने स्थाई और सुरक्षित है? यह जानने का कार्य क्वालिटी कंट्रोल टीम के द्वारा किया जाता है। जो कि दवाओं में प्रयुक्त ड्रग्स और रसायन की प्रारंभिक जांच करके यह सुनिश्चित करती है कि उपरोक्त दवा कितनी लाभदायक है?

इस प्रकार, आप बी फार्मा करके क्वालिटी कंट्रोल टीम का भी हिस्सा बन सकते हैं। आप सरकारी या निजी, किसी भी मेडिकल विभाग के लिए बतौर औषधि निरीक्षक (drug inspector)इंस्पेक्टर कार्य कर सकते हैं।

क्लिनिकल रिसर्चर

जब भी कोई नई दवा बाजार में उतारी जाती है पहले उसका क्लिनिकल ट्रायल करना आवश्यक होता है। जिसके द्वारा उसके असरदार होने का पता लगाया जाता है। ऐसे में दवाओं के क्लिनिकल ट्रायल से जुड़े कार्यों से जुड़कर भी आप अपने फार्मेसी करियर को नई उड़ान दे सकते हैं।

मार्केटिंग प्रोफेशनल्स

मार्केटिंग प्रोफेशनल्स- किसी भी प्रोडक्ट की मार्केट में क्या वैल्यू है? और आने वाली भविष्य की संभावनाएं क्या हैं? इसकी जानकारी किसी मार्केटिंग प्रोफेशनल को ही होती है। एक मार्केटिंग प्रोफेशनल दवाओं की मांग के मुताबिक आगे की योजनाएं बनाता है ।

मार्केटिंग प्रोफेशनल्स के अनुमानित संभावनाओं के अनुरूप दवाओं का उत्पादन, प्रोडक्शन का कार्य किसी भी संस्थान या उद्योग में शुरू किया जाता है। इस प्रकार से, मार्केटिंग प्रोफेशनल मेडिकल क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा पर नजर टिकाए रखने का कार्य करता है। 

उपरोक्त के अलावा, आप बी.फार्मा की डिग्री लेने के बाद आप आगे बताए गए क्षेत्र में भी अपने करियर का विकास कर सकते हैं । B Pharma के बाद कुछ अन्य कार्यों में भी अपनी किस्मत आजमा सकते हैं –

  • ड्रग थेरेपिस्ट
  • ड्रग इंस्पेक्टर
  • अस्पताल औषधि समन्वयक
  • फार्मासिस्ट
  • पैथोलॉजिकल लैब संचालक
  • स्वास्थ्य निरीक्षक
  • रासायनिक/औषधि तकनीशियन
  • जैव प्रौद्योगिकी उद्योग
  • अनुसंधान एवं विकास
  • मरीजों को प्रिस्क्रिप्शन बनाना
  • अनुसंधान अधिकारी

इसके अतिरिक्त बी फार्मा के बाद एनालिटिकल केमिस्ट, डाटा मैनेजर, हेल्थकेयर प्रोफेशनल, सेल्स एंड मार्केटिंग मैनेजर, ड्रग रेगुलेटरी मैनेजर, क्वालिटी एश्योरेंस मैनेजर, मेडिकल राइटर, मेडिकल ट्रांसक्रिप्शनिस्ट आदि भी बना जा सकता है ।

सैलरी

फार्मेसी में ग्रेजुएशन(B Pharmacy) करने वालों के लिए भारत में कई सारे नौकरी की संभावनाएं मौजूद है । बी फार्मेसी करने वाले युवकों को शुरुआत में 15 से ₹20,000 प्रति महीना की सैलरी मिल जाती है अनुभव के आधार पर बाद में 10 से 15 लाख प्रति वर्ष भी कमाया जा सकता है ।

बी फार्मेसी की डिग्री के बाद विदेश में नौकरी पाने वाले युवाओं को इससे अधिक पैसे निश्चित रूप से ही मिलते हैं ।

ऐसे में आप इस तरह से बी.फार्मा करके अपने करियर की शुरुआत कर सकते हैं आजकल मेडिकल और पैरामेडिकल इंडस्ट्री वैसे भी तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है । जिससे कि इस क्षेत्र में आने वाले लोगों का भविष्य उज्ज्वल ही कहा जा सकता है । बस आवश्यकता है कि आपकी जिस भी कार्य में रुचि है, आप उसी अनुरूप आगे बढ़े और तरक्की पाएं।


इति

उम्मीद है आपको हमारा यह करियर लेख-B Pharma Career Options पसंद आया होगा । इसमें आवश्यक संसोधन एवं इस लेख की गुणवत्ता पर अपने विचार नीचे कमेन्ट बॉक्स में जरूर रखिए ।

बने रहिये Vichar Kranti.Com के साथ । अपना बहुमूल्य समय देकर लेख पढ़ने के लिए आभार ! आने वाला समय आपके जीवन में शुभ हो ! फिर मुलाकात होगी किसी नए आर्टिकल में ..

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो आपको हमारा फेसबुक पेज जरुर पसंद आएगा…! हमसे जुड़ने के लिए इस लिंक >> विचारक्रांति फेसबुक पेज << पर क्लिक करके आप हमसे Facebook पर जुड़ सकतें हैं

निवेदन : – हमें अपनी टीम में ऐसे लोगों की जरूरत है जो हिन्दी में अच्छा लिख सकते हों । यदि आप हमारी टीम में एक कंटेन्ट राइटर के रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आगे दिए गए ईमेल पते पर मेल कीजिए । प्रत्येक लेख और आपकी लेखन क्षमता के हिसाब से उचित राशि प्रदान की जाएगी ।


इसके अलावा यदि कोई धनराशि प्राप्त किए बिना, आप हिंदी में कुछ मोटिवेशनल अथवा अन्य आर्टिकल लिख कर हमारा सहयोग करना चाहते हैं तो भी आपका स्वागत है ! लिख भेजिए अपने फोटो के साथ हमारे Email पते पर । हम उसे समीक्षा के पश्चात आपके नाम से प्रकाशित कर देंगे । हमसे जुड़ने के लिए संपर्क कीजिये Email :contact@vicharkranti.com

विचारक्रान्ति के लिए – आंशिक जौहरी

Vichar Kranti
विचारक्रांति टीम (Vichar-Kranti.Com) - चंद उत्साही लोगों की टीम जो आप तक पहुंचाना चाहते हैं सही और जीवनोपयोगी सूचनाओं के साथ जीवन बदलने वाले सकारात्मक विचारपुंजों को । उदेश्य सिर्फ एक कि - सब आगे बढ़े और सबके साथ हम भी ! आप भी अगर कुछ अच्छा लिखते हैं, तो जुड़ जाईये न हमारे साथ ... मिलकर कुछ अच्छा करते हैं ...! संपर्क सूत्र : contact@vicharkranti.com जय विचारक्रांति !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

कुछ नए पोस्ट्स

संबद्ध लिंक अमेजन -

पढिए अच्छी किताबों मे
सफलता के सीक्रेट

Vichar-Kranti

पढ़िए जीवन बदलने वाले Ideas,महापुरुषों के प्रेरक वचन,जीवनी, करियर के विकल्प और भी बहुत कुछ...जुड़िये विचारक्रांति से

error: Content is protected !!